उत्तराखंड में बहुमत परीक्षण पर लगी रोक

हरीश रावत इमेज कॉपीरइट Shiv Joshi

नैनीताल हाईकोर्ट की खंडपीठ ने गुरूवार को उत्तराखंड में होने वाले शक्ति परीक्षण पर रोक लगा दी है.

मंगलवार को ही नैनीताल हाईकोर्ट की एकल बेंच ने आदेश दिया था कि निवर्तमान मुख्यमंत्री हरीश रावत को 31 मार्च को बहुमत साबित करने का मौक़ा दिया जाय.

इस फ़ैसले को केंद्र सरकार और कांग्रेस ने बड़ी बेंच के सामने चुनौती दी थी.

उत्तराखंड विधानसभा के कुल 70 विधायकों में कांग्रेस के साथ 36 विधायक थे जिनमें से पार्टी के 9 बाग़ी हो गए और वित्त विधेयक पर मतदान के समय भाजपा के साथ खड़े नज़र आए थे.

इमेज कॉपीरइट PIB
Image caption उत्तराखंड के निवर्तमान मुख्यमंत्री केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह के साथ. फ़ाइल फ़ोटो

विधानसभा अध्यक्ष ने वित्त विधेयक पारित करने का ऐलान किया तो बागी कांग्रेस विधायक भाजपा विधायकों के साथ राज्यपाल से मिले और सरकार के अल्पमत में होने का दावा किया.

राज्यपाल ने हरीश रावत को 28 मार्च को सदन में बहुत साबित करने का आदेश दिया था.

इसके एक दिन बाद एक निजी टीवी चैनल ने मुख्यमंत्री का कथित स्टिंग जारी किया और 27 तारीख को केंद्र ने राज्य में राष्ट्रपति शासन लगा दिया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार