ब्लड डोनेशन नहीं अब खोलिए ब्लड अकाउंट

  • 2 अप्रैल 2016

बेंगलुरु में एक ऐसा ब्लड बैंक खोला जा रहा है जो एक बैंक खाते जैसा काम करेगा, जिसमें आप दान के ज़रिये ख़ून जमा करवा सकेंगे, वक़्त पड़ने पर उसे निकाल भी सकेंगे अपने, परिवार या नाते-रिश्तेदारों के इस्तेमाल के लिए.

इमेज कॉपीरइट Bloodbanking.org

खाता खोलने के लिए आपको मोबाइल ऐप डाउनलोड करना होगा और इसमें अपना डिजिटल आईडी बनाना होगा.

इस पायलट प्रोजेक्ट की शुरूआत इंडियन रेड क्रॉस सोसाइटी और जे वाल्टर थॉमसन एडवर्टाइज़िंग एजेंसी मिलकर कर रहे है. ये परियोजना रविवार से शुरू होगी.

इमेज कॉपीरइट bloodbanking.org

रेड क्रॉस की कर्नाटक इकाई के अध्यक्ष अशोक कुमार शेट्टी ने बताया, "मोबाइल ऐप के ज़रिए लोगों की डिजिटल आईडी बनाई जाएगी. इस आईडी से लोग अपना खाता खोल सकेंगे. वे इस बैंक में रक्त दान कर सकेंगे और जब ज़रूरत होगी इस ख़ून का इस्तेमाल कर पाएंगे.

शेट्टी ने बताया, ''जैसे ही एक व्यक्ति ख़ून दान करेगा उसे प्लेटलेट या प्लाज़्मा में परिवर्तित कर लिया जाएगा या ख़ून की शक्ल में जमा कर लिया जाएगा. प्लाज़्मा को साल भर, ख़ून को पांच दिन और प्लेटलेट्स को कुछ दिनों के लिए सुरक्षित रखा जा सकेगा.''

इमेज कॉपीरइट bloodbanking.org

ऐप एक पासबुक की तरह काम करेगा जिसमें दानकर्ता के बारे में पूरी जानकारी होगी. जब भी दानकर्ता को ख़ून की ज़रूरत अपने या किसी सगे संबंधी के लिए होगी वो उसे ट्रांसफर करा सकेगा.

पिछले कुछ सालों में रक्तदान में बढ़ोतरी देखी गई है. पहले बेंगलुरु में जहां ये 15,000 यूनिट हुआ करता था अब पिछले साल बढ़कर वो 31,000 यूनिट हो गया है.

लेकिन जब छात्रों की परीक्षा चल रही होती है तो रक्तदान कम हो जाता है. इससे संकट की स्थिति पैदा हो जाती है.

शेट्टी का कहना था कि इसका मक़सद लोगों को रक्तदान के लिए प्रोत्साहित करना है. इस साल दान के लिए 40,000 यूनिट का टारगेट रखा गया है.

उन्होंने कहा कि कई बार लोगों को पता ही नहीं चल पाता है कि वे रक्तदान कहां कर सकते हैं. ऐसे में ये मोबाइल ऐप लोगों को ब्लड डोनेशन कैंपों के बारे में बताता रहेगा और हर तीन महीने में ये जानकारी देता रहेगा कि वे रक्तदान कर सकते हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

'