गैर-कश्मीरियों की हिफ़ाज़त करें: हुर्रियत के गिलानी

  • 7 अप्रैल 2016
इमेज कॉपीरइट EPA

श्रीनगर स्थित नेशनल इंस्टीच्यूट ऑफ़ टेक्नोलोजी में कश्मीरी और ग़ैरकश्मीरी छात्रों के बीच मारपीट मामले पर जम्मू कश्मीर पुलिस के लाठीचार्ज के विरोध में गुरुवार को बंद है.

तनाव के बीच कश्मीर के अलगाववादी नेता सैयद अली शाह गिलानी का कहना है कि वे गैरस्थानीय छात्रों का स्वागत करते हैं. साथ ही उन्होंने स्थानीय छात्रों से उन्हें सुरक्षा मुहैया कराने की गुज़ारिश की है.

नेशनल पैन्थर्स पार्टी और श्री राम सेना की ओर से बंद बुलाया गया है.

इमेज कॉपीरइट PTI

मामले की जांच करने बुधवार को पहुंची केंद्रीय मानव संसाधन मंत्रालय की दो सदस्यीय टीम कश्मीर में 13 अप्रैल तक रहेगी. संस्थान में 13 अप्रैल से परीक्षाएं होनी हैं.

टीम ने बुधवार को अधिकारियों और छात्रों से मुलाक़ात की थी.

दूसरी ओर राज्य के उप मुख्यमंत्री और भाजपा नेता निर्मल सिंह ने कश्मीरी और गैर-कश्मीरी छात्रों के बीच मारपीट मामले में पूरी जानकारी नहीं मिलने की बात कही है. उनका कहना है कि उन्हें ये बताया गया है कि छात्रों पर मामूली लाठीचार्ज किए गए हैं और मामले में शामिल पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई की गई है.

इमेज कॉपीरइट Getty

इससे पहले उन्होंने छात्रों के बीच तनाव और झड़प के बाद की स्थिति को सामान्य बताया था.

श्रीनगर एनआईटी के इस ग़ैर-कश्मीरी छात्र के अनुसार, ''जो छात्र नॉन लोकल हैं, उन्हें कुछ स्थानीय छात्रों की भारत के ख़िलाफ़ बात अच्छी नहीं लगती. ग़ैर कश्मीरी छात्र कई दिनों से यहां पर रह रहे हैं, लेकिन वो इस बात को खुलकर बोल भी नहीं पाते. इस कारण शायद उन्होंने तिरंगा फ़हराया.''

श्रीनगर में ग़ैर कश्मीरी छात्र अपनी सुरक्षा की बात कर रहे हैं और केंद्रीय मंत्रियों स्मृति ईरानी और राजनाथ सिंह ने उन्हें सुरक्षा का भरोसा दिलाया है.

वर्ल्ड टी-20 में भारत-वेस्ट इंडीज़ मैच के दौरान श्रीनगर के एनआईटी में कश्मीरी और ग़ैर कश्मीरी छात्रों की झड़पों के बाद वहाँ ख़ासा तनाव है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार