भारत-पाक शांति प्रक्रिया निलंबित: अब्दुल बासित

  • 7 अप्रैल 2016
इमेज कॉपीरइट PIB

भारत में पाकिस्तान के उच्चायुक्त अब्दुल बासित ने कहा है कि उन्हें ऐसा लगता है कि भारत के साथ शांति प्रक्रिया निलंबित है.

अब्दुल बासित ने यह बात दिल्ली में मीडिया से बातचीत के दौरान कही.

उनकी ये प्रेस कॉन्फ़्रेस पठानकोट हमले के बाद, पाकिस्तान की जांच टीम के भारत दौरे और उसके बारे में आई विवादास्पद ख़बरों के संदर्भ में हुई.

अब्दुल बासित का कहना था कि ''देखते हैं कि हम कैसे बातचीत शुरू कर सकते हैं. जहां तक मुझे पता है, अभी दोनों देशों के विदेश सचिवों के बीच कोई बैठक तय नहीं है.''

इमेज कॉपीरइट AFP

उनके मुताबिक़, ''जम्मू कश्मीर का विवाद ही दोनों के बीच दूसरे द्विपक्षीय मुद्दों को लेकर आपसी अविश्वास की जड़ में है.''

एनआईए टीम के पाकिस्तान दौरे की इजाज़त देने के सवाल पर अब्दुल बासित ने कहा, ''व्यक्तिगत तौर पर उन्हें लगता है कि यह पूरी जांच पड़ताल आदानप्रदान की बात नहीं बल्कि इस मामले की तह तक जाने के लिए सहयोग को बढ़ाने की बात है.''

इमेज कॉपीरइट EPA

उनसे पूछा गया कि पठानकोट हमले के दोषी मसूद अज़हर को लेकर चीन के रुख़ पर पाकिस्तान का क्या कहना है. भारत मसूद अज़हर को पठानकोट हमले का दोषी मानता है.

उन्होंने कहा, "हम चीन के रुख़ को सही मानते हैं." चीन ने पिछले हफ़्ते संयुक्त राष्ट्र में भारत की ओर से मसूद अज़हर को आतंकवादी घोषित करने के प्रयासों को वीटो कर दिया था.

चीन ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में कहा था कि ये मामला ''नियमों को पूरा नहीं करता.''

इमेज कॉपीरइट AFP

भारत की एनआईए टीम के पाकिस्तान जाने और वहाँ मसूद अज़हर या अन्य लोगों से पूछताछ की संभावना से अब्दुल बासित ने ये कहते हुए इनकार किया, "ये आदान-प्रदान का मामला नहीं है बल्कि भारत और पाकिस्तान के बीच सहयोग का मामला है."

पाकिस्तान में जासूसी के आरोपों में पकड़े गए कुलभूषण यादव के मामले में अब्दुल बासित ने कहा कि यह गिरफ़्तारी उस बात को साबित करती है जिसे पाकिस्तान काफ़ी समय से कहता रहा है.

उनका कहना था, ''भारत के आग्रह पर विचार हो रहा है लेकिन कह नहीं सकते कि उन्हें कब काउंसलर की मदद मिल पाएगी.''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार