आंबेडकर पर क्यों बरस रहा है इतना प्यार

डॉक्टर बीआर अंबेडकर की तस्वीरें बेचता एक दुकानदार. इमेज कॉपीरइट EPA

भारतीय राजनीति में बहुत कुछ बदल रहा है जिसकी आहट बार-बार सुनाई दे रही है. चाहे वो हिंदू राष्ट्र की परिकल्पना हो, जातिवादी टिप्पणियां हों, पूंजीवादी प्रभाव हो या फिर दलितों का राजनीति के केंद्र में आना.

कुछ समय में हर राजनीतिक पार्टी को जो नेता महान लगने लगा है, वो हैं बाबासाहेब भीमराव अांबेडकर. जाहिर है, दलितों के मसीहा को अपने पाले में खींचने की ज़ोर आज़माइश जारी है.

(पढ़ें : कभी आंबेडकर सिख बनना चाहते थे)

दलित राजनीति नई नहीं है, बहुजन समाज पार्टी और रामदास अठावले की रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया ने केंद्र सरकार में भी भागेदारी रखी है लेकिन अांबेडकर को लेकर जितना शोर आज है वो पहले कभी नहीं रहा.

इमेज कॉपीरइट PTI

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पार्टी बीजेपी ही नहीं, उनके पथ-प्रदर्शक राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने आंबेडकर की जयकार शुरू की है, कांग्रेस, वामदल या आम आदमी पार्टी सब बाबासाहेब के सच्चे वारिस दिखना चाहते हैं.

(पढ़ें : आंबेडकर के सामने नतमस्तक क्यों है भाजपा और संघ)

संघ के प्रमुख ने पहले कहा कि आरक्षण की समीक्षा होनी चाहिए, लेकिन प्रधानमंत्री ने कहा कि आंबेडकर के आदर्शों से कोई समझौता नहीं होगा. मोदी लंदन जाकर आंबेडकर को नहीं भूलते, उनके पुराने घर को तीर्थ जैसी महत्ता दी जाती है.

इमेज कॉपीरइट Other

बहुजन समाज पार्टी का आंबेडकर प्रेम जग ज़ाहिर है. अरविंद केजरीवाल की पार्टी ने 14 अप्रैल ‘सभी दिल्लीवासियों’ को तालकटोरा स्टेडियम में बुलाया है, आंबेडकर जयंती मनाने के लिए.

जेएनयू के वामपंथी छात्र नेता कन्हैया कुमार ने जेल से निकलने के बाद अपने भाषण में कहा था कि लाल और नीला इस देश का भविष्य हैं, यानी लेफ्ट पार्टियों को दलितों के साथ गठजोड़ करना होगा क्योंकि यही भविष्य है.

हिंदू धर्म को ‘पिंजरा’ बताने वाले आंबेडकर बड़ी सार्वजनिक सभा करके बौद्ध धर्म अपनाया था, उन्होंने अपने 22 संकल्प लिए जिनमें से एक ये भी है ''मैं किसी देवी, देवता या अवतार में विश्वास नहीं करूँगा.''

(पढ़ें : आरक्षण कोई छीन नहीं सकता)

ऐसे में आंबेडकर कहां-कहाँ, कितने और कैसे फिट होंगे ये देखने वाली बात होगी. आंबेडकर अपने समय में अराजक और रैडिकल तक कहे गए. पिछले दिनों जाने-माने स्तंभकार प्रताप भानु मेहता ने आंबेडकर पर एक लंबा लेख लिखा जिसमें उन्होंने बताया कि कैसे आंबेडकर को राजनीतिक परिदृश्य से दूर रखने की कोशिश हुई है.

बीबीसी हिंदी इसी मुद्दे पर अपने फेसबुक पन्ने पर बहस कर रहा है. आप भी अपनी राय इस बहस में दें.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार