साइकिल पर सवार हुईं ऋचा सिंह

इमेज कॉपीरइट Samiratmaj Mishra

इलाहबाद विश्वविद्यालय की पहली महिला छात्र संघ अध्यक्ष ऋचा सिंह समाजवादी पार्टी में शामिल हो गई हैं.

वे विश्वविद्यालय में गोरखपुर से भाजपा के सांसद योगी आदित्यनाथ के कार्यक्रम का विरोध करने के बाद सुर्खियों में आ गई थीं.

सपा में शामिल होने के बाद ऋचा सिंह ने कहा, ''देश में असुरक्षा के माहौल को देखते हुए वह समाजवादी पार्टी में शामिल हो रही हैं. शिक्षण संस्थानों में महिलाओं के प्रति असुरक्षा का माहौल बढ़ा है जिसके चलते उन्होंने ये कदम उठाया है.''

पिछले साल नवंबर में सांसद योगी आदित्यनाथ को एबीवापी के छात्रों ने आमंत्रित किया था जिसका इन्होंने विरोध किया था.

इमेज कॉपीरइट Samiratmaj Mishra

इस घटना के बाद ऋचा सिंह ने आरोप लगाया था कि उन्हें एबीवीपी की तरफ से धमकियां मिल रही थीं.

ऋचा सिंह पर आरोप लगे थे कि उन्होंने फ़र्जी दस्तावेज़ों के जरिए दाखिला लिया था. इस संबंध में विश्वविद्यालय के वीसी ने ऋचा सिंह के ख़िलाफ़ जांच के आदेश दिए थे.

ऋचा ने आरोप लगाया था कि उन्होंने वीसी से दस शिकायतें की थी लेकिन उस पर कोई कार्रवाई नहीं की गई.

उन्होंने छात्र संघ का चुनाव निर्दलीय जीता था लेकिन उन्हें इस दौरान समाजवादी छात्र सभा का समर्थन भी मिला था.

छात्र संघ का चुनाव जीतने के बाद से ही उनकी सपा से निकटता बढ़ी थी.

इमेज कॉपीरइट AP

हाल ही में राज्य के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने उन्हें लक्ष्मीबाई पुरस्कार से सम्मानित भी किया था. उनका नाम अंतिम समय में इस सूची में जोड़ा गया था.

राज्य में 137 महिलाओं को इस पुरस्कार से सम्मानित किया गया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार