पटेलों के आंदोलन में हिंसा, पुलिस का लाठीचार्ज

  • 17 अप्रैल 2016
गुजरात हिंसा इमेज कॉपीरइट ANKUR JAIN

रविवार से गुजरात में पटेलों के आरक्षण के लिए चल रहा पाटीदार अनामत आंदोलन फिर से हिंसक हो गया है.

राज्य के कई हिस्सों में सरकारी परिवहन की बस सेवा रद्द कर दी गई है. मेहसाणा में कई रिपोर्टरों और मीडिया के कार्यालयों पर हमले हुए हैं.

पाटीदार अनामत आंदोलन के नेता हार्दिक पटेल की गिरफ़्तारी के ख़िलाफ़ पटेल समुदाय ने रविवार को राज्यव्यापी जेल भरो आंदोलन का ऐलान किया था.

इमेज कॉपीरइट ANKUR JAIN

मेहसाणा, सूरत, भावनगर और दूसरे शहरों में बड़ी तादाद में जमा हुए पटेल समुदाय के लोगों ने ज़िले की सब-जेल की तरफ़ कूच किया.

इमेज कॉपीरइट ANKUR JAIN

मेहसाणा सब-जेल की तरफ़ जाने की कोशिश कर रहे पटेल समुदाय के लोगों पर पुलिस ने लाठीचार्ज भी किया.

मेहसाणा के कलेक्टर लोचन सेहरा ने कहा, ''जब पुलिस ने पाटीदार समुदाय के सदस्यों को जेल कैंपस में घुसने से रोका, तो भीड़ ने पुलिसकर्मियों पर पत्थर फेंकने शुरू कर दिए. इसके बाद पुलिस को भीड़ को नियंत्रित करने के लिए पुलिस को लाठीचार्ज का सहारा लेना पड़ा. हमने धारा 144 लगा दी है और इलाक़े में मोबाइल इंटरनेट पर रोक लगा दी है.''

इमेज कॉपीरइट ANKUR JAIN

अहमदाबाद दिल्ली राष्ट्रीय राजमार्ग पर प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर करने के लिए पुलिस ने आंसू गैस और पानी की बौछारों का इस्तेमाल किया.

पाटीदार नेता हरिस्केश पटेल ने कहा, ''शांतिपूर्ण प्रदर्शन पर पुलिस ने लाठीचार्ज किया जिसमें कई लोग घायल हुए हैं. हमारे नेता लालजी पटेल भी घायल हुए हैं. उत्तर गुजरात में स्थिति एक बार फिर नियंत्रण से बाहर हो गई है.''

इमेज कॉपीरइट PTI
Image caption सूरत में आंदोलनकारी पुलिस के वाहन पर चढ़ गए.

गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने गुजरात की मुख्यमंत्री आनंदीबेन से बात कर केंद्र की ओर से पूर्ण सहयोग का आश्वासन दिया है.

उधर, मुख्यमंत्री ने ट्वीट कर राज्य के लोगों से शांति और सौहार्द्र बनाए रखने की अपील की है. आनंदीबेन ने अपने ट्वीट में कहा है, ''हिंसा किसी भी मुद्दे का न तो समाधान है और न होगी.''

पिछले साल अक्तूबर में गिरफ़्तार किए गए पाटीदार अनामत आंदोलन के नेता हार्दिक पटेल सूरत में लाजपोर जेल में बंद हैं.

पिछले साल पटेल समुदाय ने आरक्षण के लिए आंदोलन चलाया था, जो हिंसक हो गया था.

इस आंदोलन में बड़े पैमाने पर तोड़फोड़ और आगज़नी की घटनाएं हुई थीं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार