लड़की के बयान के बाद सामान्य होते कश्मीर के हालात

श्रीनगर में कर्फ्यू. इमेज कॉपीरइट AP

भारत प्रशासित कश्मीर में एक लड़की के साथ कथित छेड़छाड़ की घटना से पैदा तनाव के बाद अब हालात सामान्य होते दिख रहे हैं.

इस लड़की ने रविवार को मजिस्ट्रेट के सामने बयान दिया कि छेड़छाड़ सैनिक ने नहीं बल्कि स्थानीय लड़कों ने की थी.

छेड़छाड़ की इस घटना के सामने आने के बाद हंदवाड़ा में लोगों ने सेना के ख़िलाफ़ प्रदर्शन किया था. इस दौरान सेना की फ़ायरिंग में एक महिला समेत पांच लोगों की मौत हो गई थी.

कुछ दिन पहले एक वीडियो सामने आया था, इसमें लड़की एक पुलिस थाने में वही बयान देते हुए नज़र आई थी, जो उसने मजिस्ट्रेट के सामने दिया.

इमेज कॉपीरइट EPA

पुलिस थाने में ग़ैर क़ानूनी तरीके से फ़िल्माए गए इस वीडियो पर मानवाधिकार संगठनों ने आपत्ति जताई थी और वो पुलिस की इस कार्रवाई के ख़िलाफ़ अदालत पहुंचे थे.

अदालत ने पुलिस को आदेश दिया था कि लड़की को अदालत के सामने पेश किया जाए.

एक पुलिस प्रवक्ता ने कहा, ''लड़की और उसके पिता को रविवार को अदालत में पेश किया गया. लड़की ने चीफ़ ज्यूडिशिय़ल मजिस्ट्रेट के सामने अपना बयान दर्ज कराया.''

इस बीच सरकार ने पिछले छह दिन से बंद इंटरनेट सेवा और रेल सेवा को बहाल कर दिया है.

हंदवाड़ा के अलावा अन्य कस्बों से कर्फ्यू हटा लिया गया है. अधिकारियों ने हंदवाड़ा में प्रतिबंध जारी रखने का फ़ैसला किया है.

इमेज कॉपीरइट epa

एक पुलिस प्रवक्ता ने बताया कि हंदवाड़ा और अन्य संवेदनशील इलाक़ों में हफ़्ते भर चले विरोध-प्रदर्शन के दौरान क़रीब दो सौ पुलिसकर्मी घायल हो गए.

सरकार ने इन प्रदर्शनों के दौरान हुई मौतों की निष्पक्ष जांच का वादा किया है और पीड़ित परिवारों के लिए मुआवज़े की घोषणा की है.

अलगाववादी नेताओं को अभी नज़रबंद रखा जाएगा. कुछ अलगाववादी नेताओं को जेल में डाल दिया गया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार