अब भावनाओं का इज़हार मोहिनीअट्टम वाली इमोजी से

इमेज कॉपीरइट Pragit Parameswaran

हम सभी सोशल मीडिया पर दिखने वाले पीले रंग की स्माइली से बखूबी परिचित है. सोशल मीडिया पर स्माइली का इस्तेमाल भावनाओं को व्यक्त करने के लिए किया जाता है.

हालांकि केरलवासियों ने स्माइली की जगह परंपरागत नृत्य की मुद्राओं को भावनाओं को व्यक्त करने के लिए इस्तेमाल करने का फैसला लिया है.

केरल पर्यटन विभाग ने परंपरागत नृत्य की मुद्राओं वाले छोटे-छोटे वीडियो लांच किए हैं जो डिजिटल मीडिया में इमोटिकॉन की जगह ले सकते हैं.

एक्शप्रेशन्स नाम के मोबाइल एप्लिकेशन में मौजूद ये माइक्रो वीडियो दस सेकेंड से लेकर एक मेगा बाइट तक के हैं. इन वीडियोज का मकसद कला को बढ़ावा देना है.

इन 106 माइक्रो वीडियोज में मोहिनीअट्टम, उट्टान थुलाल, सीतांकन थुलाल, चाक्यारकूथु, कथकली और कोडियट्टम जैसे नृत्यों की भंगिमाएं दिखाई गई है.

इमेज कॉपीरइट Pragit Parameswaran

इस एप को केरल पर्यटन विभाग को आईटी सेवा देने वाली कंपनी इनवीस मल्टीमीडिया ने डिजाइन किया है.

इस एप का आइडिया पर्यटन विभाग के सचिव जी कमलवर्धन राव के दिमाग की उपज है.

उनका कहना है, “यह नई कोशिश पर्यटकों के लिए डिजिटल मीडिया को ज्यादा आसान बनाने और सूचनाएं मुहैया करने के लिए हैं. ”

केरल टूरिज्म प्ले स्टोर औरwww.keralatourism.org/expressionsपर यह एप उपलब्ध है.

एक छात्र पॉल जॉय का कहना है, "पीले रंग के स्माइली फेस इमोजी के तौर पर प्रचलित हो चुके हैं लेकिन कभी-कभी ये हमारे मनोभावों को व्यक्त करने में कामयाब नहीं हो पाते हैं. मैं इसके लिए परंपरागत कला वाले वीडियो क्लिप को चुनना ज्यादा आसान पाता हूं."

इमेज कॉपीरइट Pragit Parameswaran

जिसतरह से इमोटिकॉन प्यार से लेकर गुस्सा और हताशा तक को व्यक्त करती है उसी तरह से यह एप भी चेहरे की 62 भंगिमाओं के माध्यम से गुड मार्निंग, हैप्पी, सुपर, वंडर, हाउ आर यू, शानदार, शर्म, भूख और नींद लगने जैसे मनोभावों को व्यक्त करता है.

इस एप में अभी और भी भंगिमाएं जोड़ी जा सकती हैं.

मोहिनीअट्टम की मुद्राओं और चेहरे की भंगिमाओं का इस्तेमाल 'स्वागत' करने के भाव को दर्शाने के लिए किया जाता है तो फिर 'स्वागत' के लिए ही चाक्यारकूथु और कथकली की आवाज़ और चेहरे के भावों का इस्तेमाल किया गया है.

इन वीडियो में कलामंडलम सिवन नंबूदिरी, कलामंडलम गीतानंदन, मार्गी साजीव और स्मिता राजन जैसे प्रतिष्ठित कलाकारों ने इन मुद्राओं और भंगिमाओं को पेश किया है.

जल्द ही लोग डिजिटल दुनिया में इन माइक्रो वीडियोज के माध्यम से अपने गुस्से, खुशी, गम, और प्यार जैसी भावनाओं का इजहार कर सकते हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार