प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

'सोचा बच्चों का तो भविष्य बनाएं'

बीबीसी दुनिया भर में लोगों की पहचान पर एक विशेष श्रृंखला कर रही है जिसका नाम है 'आइडेंटिटी सिरीज़'.

भारत में बीबीसी हिंदी की भी कोशिश है समाज के अलग-अलग तबकों से कुछ ऐसे लोगों की कहानी आप तक पहुंचाने की जो अपनी पहचान पर खुल कर बात करते हैं.

बीबीसी संवाददाता नितिन श्रीवास्तव ने बात की एक ऐसे दलित दंपति से जो उत्तर प्रदेश के खुर्जा से दिल्ली में एक वर्ष पहले आए और अभी तक पैर नहीं जमा सके हैं.

अनिल और उनकी पत्नी राखी को एक बेहतर ज़िन्दगी की तलाश है.

बीबीसी की 'आइडेंटिटी सिरीज़' में आगे भीं मिलाएंगे आपको अलग-अलग लोगों से.