'कैसे मानें कि किरपाल दिल के दौरे से मरे'

इमेज कॉपीरइट EPA

पाकिस्तान की जेल में मृत पाए गए भारतीय नागरिक किरपाल सिंह का शव मंगलवार को वाघा सीमा के ज़रिए भारत लाया गया.

किरपाल सिंह क़रीब एक हफ़्ते पहले लाहौर की कोट लखपत जेल में मृत पाए गए थे. वो वहां 1992 से बंद थे.

उनका का शव जब वाघा सीमा पर पहुंचा तो, उनके परिवार के सदस्यों के अलावा सरबजीत सिंह की बहन दलबीर कौर भी मौज़ूद थीं.

सरबजीत की 2013 में कोट लखपत जेल में हुए हमले में मौत हो गई थी.

किरपाल सिंह के परिवार का कहना है कि उनकी मौत कुदरती नहीं है. पाकिस्तानी डॉक्टरों ने जिन्ना अस्पताल में किरपाल के शव का पोस्टमार्टम किया था.

इमेज कॉपीरइट ravinder singh robin

पाकिस्तान का कहना है कि किरपाल सिंह की मौत दिल का दौरा पड़ने से मौत हुई है.

परिवार ने कहा, "हम कैसे भरोसा कर लें कि उनकी मौत दिल के दौरे से हुई है. हम सच जानना चाहते हैं?"

समाचार एजेंसी के पीटीआई के मुताबिक़ किरपाल का शव भारत आने के बाद अमृतसर के सरकारी मेडिकल कॉलेज़ में उसका पोस्टमार्टम किया गया.

इस कॉलेज के प्रिंसिपल डॉक्टर बीएस बल ने कहा, ''पोस्टमार्टम के दौरान पता चला कि शव में दिल और पेट नहीं है. इसके अलावा शरीर पर किसी बाहरी या आंतरिक चोट का निशान नहीं पाया गया.''

इमेज कॉपीरइट ravinder singh robin

उन्होंने कहा, ''अब हमारे पासे किडनी और लीवर है. मौत के सही कारणों का पता लगाने के लिए इन दोनों के नमूनों को जांच के लिए अमृतसर से बाहर की लैब में भेजा जाएगा.''

उन्होंने कहा, ''पोस्टमार्टम में पाया गया कि पाकिस्तान में हुए पोस्टमार्टम के दौरान किडनी और लीवर से कोई नमूना नहीं लिया गया है, जो कि इस तरह के मामले में मौत के कारण का पता लगाने के लिए ज़रूरी है.''

उन्होंने बताया कि पाकिस्तान ने कोई पोस्टमार्टम रिपोर्ट भी नहीं भेजी है.

परिवार के मुताबिक़ किरपाल सिंह 1992 में अनजाने में वाघा सीमा पार कर पाकिस्तान चले गए थे. वहां जासूसी के आरोप में उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया.

इमेज कॉपीरइट ravinder singh robin

बाद में पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में फ़ैसलाबाद रेलवे स्टेशन पर सिलसिलेवार बम धमाकों के मामले में उन्हें मौत की सजा सुनाई गई.

उनका परिवार पाकिस्तान जेल से उनकी रिहाई की कोशिश कर रहा था. इसके लिए उन्होंने भारतीय अधिकारियों को कई बार लिखा था.

पाकिस्तान में एक अन्य भारतीय सरबजीत सिंह की मौत के बाद परिवार के सदस्य किरपाल सिंह की हत्या की आशंका जता रहे थे.

इमेज कॉपीरइट AFP

दलबीर कौर का कहना है कि पाकिस्तान की जेल में कैद कई दूसरे भारतीय कैदी भी सुरक्षित नहीं हैं.

उन्होंने विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को पाकिस्तान की जेलों में बंद ऐसे 11 भारतीय नागरिकों की सूची दी है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार