‘क्या शक्तिमान के हत्यारों को सज़ा होगी?’

इमेज कॉपीरइट

देहरादून पुलिस के घोड़े शक्तिमान को ट्विटर पर बॉलीवुड सेलेब्रिटी और आम लोगों ने श्रद्धांजलि दी है. इसी के साथ बहुत से लोगों ने भाजपा विधायक के ख़िलाफ़ कार्रवाई की मांग की है.

कई ने इसे राजनीतिक तरीक़े से पेश किया और आरोप लगाया कि घोड़े की मौत के ज़रिए भाजपा का विरोध किया जा रहा है.

बॉलीवुड अभिनेता ऋषि कपूर (@chintskap) ने भाजपा विधायक गणेश जोशी और घोड़े की तस्वीर लगाते हुए ट्विटर पर लिखा – ‘अगर भारत में ज़मीर बचा है तो इस शख़्स पर कार्रवाई की जानी चाहिए. चाहे ये कोई भी गणेश जोशी हों. क्या बहरे राजनीतिक कान सुन रहे हैं?’

इमेज कॉपीरइट PTI

कांग्रेस नेता राजीव शुक्ला (‏@ShuklaRajiv) ने लिखा – ‘जानकर दुख हुआ कि शक्तिमान की मौत हो गई. अगर हम इंसान जानवरों के अधिकारों की रक्षा नहीं कर सकते, तो इंसानियत और नैतिकता की किससे उम्मीद करेंगे.’

बॉलीवुड अभिनेत्री सिमी ग्रेवाल (‏@Simi_Garewal) ने कहा – ‘गणेश जोशी को दंड मिलना चाहिए जिस तरह उन्होंने शक्तिमान को दिया. देखते हैं कि अमित शाह न्याय करते हैं या नहीं.’

लेखिका शोभा डे (@DeShobhaa) का कहना था – ‘कृपया! शक्तिमान का राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार करें. हम इस घोड़े के लिए इससे ज़्यादा नहीं कर सकते, जिस पर दोपाया जानवरों ने हमला किया.’

Image caption देहरादून पुलिस के घोड़े शक्तिमान के ज़ख़्मी होने पर लिखी गई पुलिस रिपोर्ट

कांग्रेस नेता मिलिंद देवड़ा (@milinddeora) ने न्यूज़18 की ख़बर को रिट्वीट करते हुए लिखा – ‘क्या शक्तिमान के हत्यारों को सज़ा होगी?’

केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी के मीडिया में आए बयान कि ‘शक्तिमान ड्यूटी पर कार्यरत पुलिस अधिकारी था’, पर कई लोगों ने ट्विटर पर टिप्पणी की हैं.

नेहा यादव (@nehayad37523021) लिखती हैं- तो क्या खुलेआम ड्यूटी ऑफ़िसर की हत्या करने वाले को सज़ा मिलेगी?

रवि (@ravkup) लिखते हैं – शक्तिमान के लिए मन भरा आता है. जो अपनी ग़लती से नहीं मरा बल्कि इंसानों की क्रूरता ने उसकी जान ली, शर्म है.

अनिमेश त्यागी (@animeshynr) का कहना है- शक्तिमान, तुम नफ़रत की राजनीति का शिकार हुए.

कुछ लोगों ने शक्तिमान को श्रद्धांजलि देने वालों और भाजपा विधायक के ख़िलाफ़ कार्रवाई की मांग करने वालों को निशाने पर लिया.

एके (‏@aaakhanna) ने लिखा - भारत के इतिहास में पहली बार किसी जानवर की मौत हुई है. #Shaktimaan नाम का मीडिया का लाडला घोड़ा अब नहीं.

तो दूसरी ओर गौरव यादव (‏@gaurav1392) का कहना था कि – मैंने देखा कि कई न्यूज़ चैनल रोहित वेमुला, कन्हैया और शक्तिमान को एक ही ख़बर में मिला रहे थे. ताज्जुब है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार