बिहार: 'सुबह नौ से शाम छह के बीच खाना न बनाएँ'

बिहार के शेखपुरा मे लगी आग को बुझाते लोग. इमेज कॉपीरइट RANJEET KUMAR

बिहार सरकार के आपदा प्रबंधन विभाग ने ग्रामीण इलाक़ो में सुबह नौ बजे के बाद और शाम छह बजे से पहले खाना न बनाने और पूजा-हवन न करने की सलाह दी है.

इसके साथ ही गेहूं का भूसा और डंठल जलाने पर पूरी तरह से रोक लगा दी गई है. गर्मी की वजह से राज्य में आग लगने की बढ़ती घटनाओं पर रोक लगाने के लिए ऐसा किया गया है.

मुख्यमंत्री के निर्देश पर विभाग ने सोमवार को एक एडवाइजरी (सलाह) जारी की थी.

इमेज कॉपीरइट Raju Jaisawal

इसका उल्लंघन करने से यदि आग लगती है तो दोषी लोगों के खिलाफ आपदा प्रबंधन अधिनियम के तहत कार्रवाई की जाएगी.

आपदा प्रबंधन विभाग के प्रधान सचिव व्यास जी ने बीबीसी को फोन पर बताया, ‘‘आग लगने की घटनाओं की समीक्षा में पाया गया है कि ऐसी ज्यादातर घटनाएं चूल्हे की आग से निकलने वाली चिंगारी से हुई हैं. ऐसे में सलाह दी गई है कि गांवों में चूल्हे की आग से खाना बनाने वाले सुबह नौ बजे के पहले खाना बनाकर आग बुझा दें.’’

इमेज कॉपीरइट Raju Jaisawal

उनके मुताबिक़ समीक्षा में यह भी पाया गया है कि हवन और खेतों में गेहूं का भूसा और डंठल जलाने के कारण भी आग लगने की कुछ घटनाएं हुईं हैं.

औरंगाबाद ज़िले में 22 अप्रैल को 13 लोग जलकर मर गए थे. बताया जा रहा है कि यह घटना हवन के दौरान निकली चिंगारी से हुई थी.

इमेज कॉपीरइट Raju Jaisawal

आपदा प्रबंधन विभाग ने हर ज़िले को इस एडवाइज़री का प्रचार-प्रसार करने को कहा है.

विभाग के मुताबिक प्रदेश में बीते करीब एक महीने के दौरान अब तक 67 लोगों की मौत आग लगने की घटनाओं में हुई है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार