अगस्ता हेलिकॉप्टर सौदे पर राज्यसभा में हंगामा

इमेज कॉपीरइट PTI
Image caption उपाध्यक्ष पीजे कुरियन

अगस्ता वेस्टलैंड हेलिकॉप्टर सौदे पर उठे विवाद के बारे में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने कहा है कि यदि भाजपा चाहे तो उनका नाम ले. उन्हें कुछ भी छिपाने की ज़रूरत नहीं है और वो किसी बात से नहीं डरतीं.

सोनिया गांधी ने मीडिया से कहा कि भारतीय जनता पार्टी दो साल से सत्ता में है तो इस दौरान उसने इस सौदे में चल रही जांच को पूरा क्यों नहीं किया? उन्होंने मांग की कि इसकी जांच जल्द से जल्द पूरी होनी चाहिए.

इमेज कॉपीरइट AFP

भारतीय जनता पार्टी 3600 करोड़ रुपए के 12 हेलिकॉप्टरों के सौदे में कांग्रेस नेता पर भ्रष्टाचार के आरोप लगा रही है.

बुधवार को जैसे ही राज्यसभा की कार्यवाही शुरू हुई तो भाजपा सांसद सुब्रह्मण्यम स्वामी ने अगस्ता वेस्टलैंड हेलीकॉप्टर का मसला उठाया और सोनिया गांधी का नाम लिया.

इसके बाद हंगामा होने लगा और कार्यवाही को कुछ देर के लिए स्थगित करना पड़ा.

इमेज कॉपीरइट PTI

मीडिया के मुताबिक़ सोनिया गांधी ने कहा कि ''उन्हें कुछ भी छिपाने की ज़रूरत नहीं है. वह डरती नही हैं और बीजेपी अगर उनका नाम लेना चाहती है तो ले.''

दूसरी तरफ रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने कांग्रेस को चुनौती देते हुए कहा, ''वह यूपीए सरकार के उस आदेश की कॉपी दिखाए जो उसने अगस्ता वैस्टलैंड कंपनी को ब्लैकलिस्ट करने के लिए दिया था.''

पर्रिकर ने कहा कि वह इस मामले में भविष्य में संसद में विस्तार से अपनी बात रखेंगे.

पर्रिकर के अनुसार उनके मंत्रालय को इटली के कोर्ट के आदेश की कॉपी मिल गई है और वे इसका अंग्रेज़ी में अनुवाद करवा रहे हैं. अनुवाद करवाने में आठ से दस दिन लग सकते हैं.

कांग्रेस नेता गुलाम नबी आज़ाद ने सवाल उठाया कि जब यूपीए सरकार ने अगस्ता वेस्टलैंड को ब्लैकलिस्ट कर दिया था तो उससे प्रतिबंध क्यों हटाया गया.

बहुजन समाज पार्टी सुप्रीमो मायावती ने इससे पहले कहा था कि इस मामले में कांग्रेस और बीजेपी दोनों ही अपने ढंग से बातें कह रहे हैं.

उन्होंने कहा कि सच सामने आना ज़रूरी है इसलिए मामले की जांच सुप्रीम कोर्ट की देखरेख में करवाई जानी चाहिए.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार