लक्ष्मी बनीं किन्नर अखाड़े की महामंडलेश्वर

  • 3 मई 2016
इमेज कॉपीरइट Preeti Mann

ट्रांसजेंडर अधिकारों के लिए काम करने वाली लक्ष्मी नारायण त्रिपाठी को उज्जैन सिंहस्थ में किन्नर अखाड़े की महामंडलेश्वर घोषित किया गया.

बताया जाता है कि उन्हें देश के लगभग 20 लाख किन्नरों की सर्वसम्मति से इस पद के लिए चुना गया है.

उनके अलावा अलग-अलग प्रदेशों से छह किन्नर पीठाधीश्वर, अर्ध पीठाधीश्वर और महंत चुने गए.

इमेज कॉपीरइट Preeti Mann

लक्ष्मी का कहना है कि उन्हें इस बात की ख़ुशी है कि अब तक समाज में तिरस्कृत किन्नर समुदाय भी सम्मान के साथ जीवन जी सकेगा.

ट्रांसजेंडरों के अधिकार के लिए 'अस्तित्व' समूह के नाम से अभियान चलाने वाली लक्ष्मी का कहना है कि किन्नर अखाड़े का मुख्यालय उज्जैन में रहेगा जिसमें पर्यावरण संरक्षण, गोरक्षा, कन्या भ्रूण हत्या का विरोध और बाल विवाह रोकने के लिए काम किए जाएंगे.

इमेज कॉपीरइट Preeti Mann

लक्ष्मी का जन्म महाराष्ट्र के ठाणे के ब्राह्मण परिवार में हुआ था. उन्होंने मिठिबाई कॉलेज से आर्ट्स में डिग्री ली और भरतनाट्यम में पोस्ट ग्रेजुएशन भी किया.

छोटी उम्र में ही समाज ने उन्हें अलग होने का अहसास दिलाना शुरू कर दिया था, फिर लक्ष्मी की मुलाकात किन्नर अशोक रॉव कवी से हुई, जिन्होंने उन्हें नृत्य सीखने के लिए प्रेरित किया.

इमेज कॉपीरइट Preeti Mann

बाद में लक्ष्मी ने केन घोष के म्यूजिक वीडियो में काम किया और वो कोरियोग्राफर बन गईं.

पर लक्ष्मी का सफर यहीं नहीं थमा. वो मुंबई में बार डांसर बन गईं पर मुंबई में डांस बार बंद किए जाने पर इसके विरोध में लक्ष्मी ने बढ़ चढ़ कर हिस्सा लिया. यहाँ से उनकी नई पारी की शुरुआत हुई.

उन्होंने किन्नरों के सम्मान के लिए कई मंचों से आवाज उठाई. वो 2008 में संयुक्त राष्ट्र के एशिया पैसिफिक सम्मलेन में प्रतिनिधित्व करने वाली पहली ट्रांसजेंडर हैं.

इमेज कॉपीरइट Preeti Mann

लक्ष्मी 'बिग बॉस' और 'सच का सामना' जैसे टीवी रियलिटी कार्यक्रमों में भी शिरकत कर चुकी हैं.

लक्ष्मी कहती हैं कि किन्नर अखाड़े को महाकुंभ का हिस्सा बनाने के पीछे भी उनकी मंशा किन्नरों को समाज में एक सम्मानजनक स्थान दिलाने की है.

उनका कहना है, "जब हर कोई हमसे आशीर्वाद और दुआ लेता है तो समाज में किन्नरों के लिए सम्मानजनक स्थान क्यों नहीं है?"

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए य हां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार