'शाही रसगुल्ला' पर मौसम की मार

  • 7 मई 2016
इमेज कॉपीरइट satish kumar

गर्मी की मार इस बार बिहार के लीची उगाने वाले किसानों पर भी पड़ रही है. बिहार का मुजफ्फ़रपुर ज़िला मीठी-रसीली शाही लीची का प्रमुख उत्पादक है.

यह ज़िला लीची के बगानों के लिए पूरी दुनिया में जाना जाता है. लीची को पेड़ पर उगने वाला रसगुल्ला भी कहते हैं.

लेकिन पूरे अप्रैल महीने में पड़ी रिकार्ड तोड़ गर्मी और अब तक बारिश न होने का असर शाही लीची के उत्पादन और इसकी गुणवत्ता पर भी पड़ना तय माना जा रहा है.

इमेज कॉपीरइट Satish Kumar

किसानों का कहना है कि अनुकूल मौसम नहीं मिल पाने की वजह से बागों में तेजी से लीची के फल झड़ रहे हैं. यहां तक कि आबो-हवा में नमी नहीं रहने के कारण सिंचाई से भी ज़्यादा फ़ायदा नहीं हो रहा है.

लीची उगाने वाले ज़िले के एक प्रमुख किसान भवानी शंकर बताते हैं, ‘‘मंजर बहुत बढ़िया आया था. लेकिन इतना लंबा सूखा मौसम रहा, इतनी ज़्यादा पछुआ हवा चली कि मंजर तो क्या पेड़ों के पत्ते तक झुलस गए. ऐसे मौसम ने लीची की फसल को बर्बाद कर दिया.’’

इमेज कॉपीरइट Manish Saandilya

जानकारों के मुताबिक ज़िले में हर साल करीब तीन लाख टन लीची का उत्पादन होता है. इस साल लीची के उत्पादन में 30 से 40 फ़ीसद तक की कमी की बात कही जा रही है.

लीची के निर्यातक और राधाकृष्ण इंपैक्स प्राइवेड लिमिटेड के निदेशक आलोक केडिया आशंका जताते हैं, ‘‘एक्सपोर्ट क्वालिटी की लीची की फसल शायद इस बार तैयार नहीं हो. लगातार पछुआ हवा चलने के कारण इस बार लीची की साइज छोटी रहेगी. बड़े पैमाने पर लीची पर काले दाग भी आ गए हैं.’’

इमेज कॉपीरइट Satish Kumar

हालांकि बिहार में बीते तीन दिनों में पारा गिरा है. आलोक इसे लीची के लिए बहुत अनुकूल मौसम बताते हैं. साथ ही उनका ये भी ये भी कहना है कि अगर अब भी बारिश हो गई तो और बेहतर रहेगा.

आलोक केडिया जिस बदले मौसम की बात कर रहे हैं, उसे पटना स्थित भारतीय मौसम विज्ञान केंद्र के पूर्वानुमान से भी और मज़बूती मिलती दिख रही है.

इमेज कॉपीरइट Manish Saamdilya

केंद्र ने चार मई को बिहार के दक्षिण-पश्चिम इलाके को छोड़ लगभग पूरे बिहार में हल्की बारिश का पूर्वानुमान लगाया है. बावजूद इसके मुजफ़्फ़रपुर में लीची की पैदावार बहुत कम होने की आशंका बनी हुई है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार