मोदी की मार्कशीट पर नाम में अंतर क्यों ?

  • 9 मई 2016
आप नेता आशुतोष. इमेज कॉपीरइट Facebook Ashutosh

आम आदमी पार्टी ने भाजपा की ओर से जारी की गई प्रधानमंत्री की बीए और एमए की डिग्रियों की फर्जी और नक़ली बताया है.

दिल्ली में आयोजित एक संवाददाता सम्मेलन में आप नेता अाशुतोष ने कहा कि प्रधानमंत्री की बीए और एमए की डिग्रियों में दर्ज नाम में अंतर है.

उन्होंने कहा कि बीए की डिग्री में नाम नरेंद्र कुमार दामोदर दास मोदी दर्ज है, जबकि एमए की डिग्री पर नाम नरेंद्र दामोदर दास मोदी दर्ज है.

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री के बीए के अंकपत्र और डिग्री में परीक्षा का साल अलग-अलग है. उन्होंने कहा कि अंकपत्र में साल 1977 और डिग्री में 1978 दर्ज है.

इमेज कॉपीरइट BJP Twitter

इससे कुछ ही देर पहले भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की बीए और एमए की डिग्री की कॉपियां पत्रकारों को बांटी थीं.

इमेज कॉपीरइट

भाजपा मुख्यालय में आयोजित एक संवाददाता सम्मेलन में अमित शाह ने बताया था कि नरेंद्र मोदी ने दिल्ली विश्वविद्यालय से बीए और गुजरात विश्वविद्यालय से एमए की डिग्री ली है.

प्रधानमंत्री की डिग्री को लेकर आम आदमी पार्टी के प्रमुख और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कई सवाल उठाए थे.

इमेज कॉपीरइट

भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि अरविंद केजरीवाल ने प्रधानमंत्री की डिग्री को लेकर जिस तरह का विवाद खड़ा किया है, उसके लिए उन्हें देश और दुनिया से माफी मांगनी चाहिए.

इस अवसर पर मौज़ूद वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बीए की परीक्षा दिल्ली में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कार्यालय में रहकर दी थी.

जेटली ने कहा कि अरविंद केजरीवाल आधारहीन आरोपों से राजनीति को बहुत निचले स्तर पर ले गए हैं. उन्होंने कहा कि आप के ही कई नेता फ़र्जी डिग्री के आरोप में मुकदमे का सामना कर रहे हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार