'फ़र्ज़ी डिग्री' मामले में मोदी नहीं अकेले

  • 10 मई 2016
modi इमेज कॉपीरइट AFP

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की शैक्षिक योग्यता और डिग्री को लेकर भाजपा और आम आदमी पार्टी (आप) के बीच इस समय एक जंग सी छिड़ी हुई है.

'आप' ने पहले कहा कि साल 2014 के चुनाव के समय प्रधानमंत्री ने अपने नामांकन पत्र में अपनी डिग्री के बारे में झूठी जानकारी दी थी.

कई दिनों बाद सोमवार को भाजपा अध्यक्ष अमित शाह और वित्त मंत्री अरुण जेटली ने एक प्रेसवार्ता में प्रधानमंत्री की डिग्रियां दिखाईं और आम आदमी पार्टी से झूठा इल्ज़ाम लगाने के लिए प्रधानमंत्री और देश से माफ़ी मांगने को कहा.

इस प्रेस वार्ता के एक घंटे बाद 'आप' ने दावा किया कि अमित शाह ने नकली डिग्रियां प्रेस को दिखाई थीं.

भारत में ये पहला अवसर नहीं है जब किसी नेता के खिलाफ नकली डिग्री पेश करने के इल्ज़ाम लगे हों या अपनी कथित शैक्षिक योग्यता के बारे में गुमराह करने वाली जानकारी दी हो.

स्मृति ईरानी

इमेज कॉपीरइट Getty

मानव संसाधन विकास मंत्री और भाजपा नेता स्मृति ईरानी की डिग्री एक अर्से तक रहस्य में डूबी रही.

स्मृति के खिलाफ इल्ज़ाम था कि उन्होंने चुनाव आयोग को अपनी शैक्षिक योग्यता के बारे में सही जानकारी नहीं दी.

अहमद खान नाम के पत्रकार ने दिल्ली की एक अदालत में ईरानी के खिलाफ इल्ज़ाम लगाया कि उन्होंने वर्ष 2004 और 2014 के आम चुनावों में अपनी डिग्री के बारे में अलग-अलग जानकारी दी थी.

अदालत ने चुनाव आयोग और दिल्ली विश्वविद्यालय से ईरानी की डिग्रियों को पेश करने के आदेश दिए हैं.

राहुल गांधी

इमेज कॉपीरइट EPA

जानकारों का कहना है कि अगर विपक्ष और ख़ास तौर से कांग्रेस पार्टी मोदी की डिग्री के मुद्दे को नहीं उछाल रही है तो इसके पीछे कारण ये है कि विपक्ष के कई नेता नकली डिग्री हासिल करने या दिखाने के इलज़ाम से घिरे हैं.

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के खिलाफ आरोप हैं कि उन्होंने अपने हलफनामे में अपनी शैक्षिक योग्यता के बारे में पूरी जानकारी नहीं दी.

सोनिया गांधी

इमेज कॉपीरइट PIB

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के कैंब्रिज यूनिवर्सिटी से अंग्रेज़ी ज़बान में पढ़ाई करने के दावे को भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने नकारते हुए इलज़ाम लगाया है कि यूनिवर्सिटी में उनका कोई रिकॉर्ड है ही नहीं.

सुब्रमण्यम स्वामी इस मामले को सुप्रीम कोर्ट तक ले गए हैं.

जितेंदर सिंह तोमर

इमेज कॉपीरइट Getty

आम आदमी पार्टी की दिल्ली सरकार में क़ानून मंत्री जितेंदर सिंह तोमर को फ़र्ज़ी डिग्री को लेकर न केवल मंत्रालय छोड़ना पड़ा बल्कि हवालात भी जाना पड़ा.

पार्टी के एक और विधायक सुरेंदर सिंह के खिलाफ भी नकली डिग्री हासिल करने का इलज़ाम है. ये मामला हाई कोर्ट में चल रहा है.

वरुण गांधी

इमेज कॉपीरइट AFP

भाजपा नेता वरुण गांधी के इस दावे को कि उन्होंने लंदन स्कूल ऑफ़ इकोनॉमिक्स और स्कूल ऑफ़ ओरिएंटल एंड अफ्रीकन स्टडीज में पढ़ाई की है, ग़लत पाए जाने की खबरें आती रही हैं.

जब ये मामला सामने आया था तो उस समय खासा हंगामा हुआ था लेकिन ये मुद्दा अब दब सा गया है.

ममता बनर्जी

इमेज कॉपीरइट AFP

अमरीका में ईस्ट जॉर्जिया यूनिवर्सिटी का वजूद है ही नहीं, लेकिन तृणमूल कांग्रेस की नेता और पश्चिमी बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने इस विश्वविद्यालय से पीएचडी की डिग्री हासिल करने का दावा किया था.

नकली डिग्री का मुद्दा नेताओं तक ही सीमित नहीं है.

विशेषज्ञ मानते हैं कि पेशेवर तबके में लाखों लोगों ने नकली डिग्रियों का सहारा लिया है. लेकिन व्यक्तिगत रूप से जाली डिग्री हासिल करने वालों के बारे में ठोस जानकारी किसी के पास नहीं है.

विश्वविद्यालय अनुदान आयोग के एक हालिया बयान के अनुसार भारत में 22 फ़र्ज़ी विश्वविद्यालय हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार