तमिलनाडु में एक उम्मीदवार का अटपटा वादा

विनोथ

चेन्नई के टी-नगर चुनाव क्षेत्र में चुनाव प्रचार ज़ोर पर हैं लेकिन मैं जिस उम्मीदवार के पीछे भाग रहा हूँ वो हाथ जोड़े एक 'अटपटा' वादा भी कर रहे हैं.

विनोथ अपने मतदाताओं से कह रहे हैं, "मुझे जिताइए, दो साल के भीतर अगर विकास के सभी रुके हुए काम पूरे नहीं कर दिए तो इस्तीफ़ा देने की कसम खा रहा हूँ."

तमिलनाडु राज्य की 234 विधान सभा सीटों के लिए 16 मई को मतदान होना है और सत्ताधारी एआईडीएमके और विपक्षी डीएमके के आलावा कई और दल भी लड़ाई में हैं.

पत्ताली मक्कल काची यानी अंबुमणि रामदॉस की पीएमके पार्टी के उम्मीदवार भी मैदान में हैं और विनोथ इसी पार्टी के चुनाव चिह्न पर लड़ रहे हैं.

इलाके में चावल के व्यापारी विनोथ के अनुसार उनकी आमदनी 70,000 रुपए महीने है लेकिन वे चुनाव सिर्फ़ इसलिए लड़ रहे हैं कि इलाके में सुधार किया जा सके.

उन्होंने कहा, "मैं इलाके के एक साधारण परिवार में पला-बढ़ा हूँ इसलिए लोग मुझे बख़ूबी जानते हैं. मैं अपने वोटरों से कह रह हूँ कि आपने दो बड़ी पार्टियों को बहुत मौका दे लिया अब मुझे दीजिए. अगर दो वर्ष के भीतर काम नहीं किया तो मेरे चुनावी पैम्फलेट में मेरे इस्तीफ़ा की बात भी लिख़ दी गई है."

मेरे भी मन में सवाल था कि इस तरह के इस्तीफ़े की पेशकश करते समय क्या विनोथ को डर नहीं लगा.

उनका जवाब था, "जब मैंने चुनाव क्षेत्र का दौर करना शुरू किया तब हर वोटर मुझसे कहता था आप वादे तो कर रहे है, लेकिन एक साल के बाद हाल पूछने तक नहीं आएँगे. उसी दिन मैंने तय किया कि अपने चुनावी वादों में सबसे पहला वादा काम न कर पाने की स्थिति में इस्तीफा देने का होगा."

बहरहाल टी-नगर चुनाव क्षेत्र में विनोथ की 'कैम्पेन इंचार्ज' उनकी पत्नी हैं जो खुली जीप में उनके साथ घर-घर जा रहीं हैं.

इलाक के आम मतदाताओं को विनोथ के वादे पर अचरज भी है और हैरानी भी.

37 वर्षीय नलियम ने कहा, "इलाके में बारिश में पानी घरों में भरने से लेकर ख़राब सड़कों तक की समस्या है. पता नहीं विनोथ जीतेगा भी कि नहीं. और अगर जीत भी गया तो बदल क्या सकेगा."

एक दूसरे मतदाता आलियप्पन के मुताबिक़ विनोथ के वादे में दम है लेकिन इलाके में जयललिता की एआईडीएमके और विपक्षी डीएमके के उम्मीदवारों के बीच ही मुक़ाबला है.

इस बीच एक के बाद दूसरे घर का दरवाज़ा खटखटा रहे विनोथ ने कहा, "मुझे इलाके का असल दर्द पता है. नतीजों का इंतज़ार कीजिए."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार