योग रिपोर्टिंग मामले में पत्रकार गिरफ़्तार

  • 15 मई 2016
इमेज कॉपीरइट EPA

विश्व योग दिवस के मौक़े पर एक कथित फ़र्ज़ी आरटीआई के आधार पर ख़बर लिखने के आरोप में दिल्ली के एक पत्रकार को गिरफ़्तार किया गया है.

पत्रकार पुष्प शर्मा ने मुस्लिम समुदाय पर केन्द्रित अख़बार 'मिल्ली गज़ट' में एक रिपोर्ट लिखी थी जिसमें उन्होंने दावा किया था कि सरकारी नीति के तहत मुस्लिमों को योग शिक्षक के तौर पर नहीं रखा जाता है.

यह रिपोर्ट मार्च महीने में प्रकाशित हुई थी. इस ख़बर के छपने के बाद काफ़ी बवाल मचा था और पुलिस ने कई दिनों तक पुष्प शर्मा से पूछताछ भी की थी.

पुष्प शर्मा ने आयुष मंत्रालय से कथित तौर पर आरटीआई के ज़रिए हासिल की गई जानकारी के आधार पर लिखा था कि पिछले साल (2015) 21 जून को 'विश्व योग दिवस' के मौक़े पर 'मुस्लिम योग प्रशिक्षकों' का विदेश जाकर 'प्रशिक्षण' देने के लिए जानबूझकर चयन नहीं किया गया था.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

लेकिन आयुष मंत्रालय ने पुष्प शर्मा पर दस्तावेज़ों को तोड़ मरोड़ कर पेश करने का आरोप लगाया गया है और इसी आरोप में दिल्ली पुलिस ने उन्हें शनिवार को गिरफ़्तार किया है.

पुष्प शर्मा ने इन आरोपों से उन्होंने इनकार किया है.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

उनका कहना है कि उनकी रिपोर्ट योग और आयुर्वेदिक दवाओं के प्रचार प्रसार करने वाले आयुष मंत्रालय से आरटीआई के ज़रिए मिले जवाब पर आधारित थी.

पुष्प ने अपनी रिपोर्ट में लिखा था कि कई बार मंत्रालय से सवाल करने के बाद जवाब मिला कि 3841 मुस्लिमों ने योग शिक्षक बनने के लिए आवेदन दिया था, लेकिन अक्तूबर 2015 तक किसी को भी नौकरी पर नहीं रखा गया.

मिल्ली गज़ट में छपी पुष्प शर्मा की रिपोर्ट के साथ ही मंत्रालय के जवाब को भी छापा गया था.

इमेज कॉपीरइट Reuters

उनकी रिपोर्ट के मुताबिक़, मंत्रालय के जवाब में कहा गया था कि पिछले वर्ष जून में आयोजित पहले योग दिवस के मौक़े पर 711 मुस्लिम योग प्रशिक्षक के तौर पर विदेश जाना चाहते थे, लेकिन सरकारी नीति को देखते हुए किसी का भी चयन नहीं हो सका था.

अख़बार के संपादक ज़फ़रूल इस्लाम ख़ान का कहना है कि पत्रकार पुष्प पर लगाए गए आरोप सीधे तौर पर 'प्रेस की स्वतंत्रता' का हनन है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार