'ब्रेड में कैंसर पैदा करने वाले रसायन,' होगी जांच

  • 24 मई 2016
ब्रेड इमेज कॉपीरइट Getty

केंद्रीय स्वास्थ मंत्रालय ने दिल्ली में बेचे जा रहे ब्रेड और बेकरी प्रोडक्ट्स में कैंसर पैदा करने वाले रसायनों के इस्तेमाल की जांच के आदेश दिए हैं.

पर्यावरण के लिए काम करनेवाली संस्था सेंटर फ़ॉर साइंस एंड एन्वायरमेन्ट ने अपनी स्टडी में पाया था कि राजधानी में बेचे जा रहे ब्रेड और बेकरी के 84 फ़ीसदी उत्पादों में पोटैशियम ब्रोमेट और पोटैशियम आयोडेट के अंश मौजूद हैं.

इन रसायनों का इस्तेमाल ब्रेड और बेकरी उत्पादों के लिए तैयार किए गए आटे में होता है.

कई देशों में इन रसायनों के इस्तेमाल पर रोक लगी हुई है लेकिन ये भारत में प्रतिबंधित नहीं हैं.

ब्रेड बनाने वाली कंपनियों के एसोसिएशन ने कहा है कि ये सुरक्षित हैं और अमरीका समेत कई देशों में इनका इस्तेमाल हो रहा है.

स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा है कि लोगों को डरने की ज़रूरत नहीं है और सरकारी जांच की रिपोर्ट का इंतज़ार करना चाहिए.

इमेज कॉपीरइट ojo images

वहीं सीएसई ने दावा किया है कि खाद्य सुरक्षा और मानक संस्था (एफ़एसएसएआई) ने ब्रेड में पोटैशियम ब्रोमेट के इस्तेमाल पर रोक लगाई है

सीएसई के डिप्टी जायरेक्टर जनरल ने कहा, ''हम एफ़एसएसआई के पोटैशियम ब्रोमेट पर रोक लगाने के फ़ैसले का स्वागत करते हैं, हमें उम्मीद है कि पोटैशियम आयोडेट पर भी जल्द प्रतिबंध लग जाएगा.''

सीएसई के मुताबिक़ ब्रेड बनाने में इस्तेमाल होने वाले इन पदार्थों के स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होने के कारण कई देशों में इन पर प्रतिबंधित हैं.

सीएसई का दावा है कि इनमें से एक रसायन टूबी कार्सीनोजेन कैटेगरी में रखा गया है जिसमें पदार्थों से कैंसर और थायरइड से जुड़ी समस्या होने की संभावना जताई जाती है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार