तो मोदी ने ईरानी नेताओं को क्या तोहफ़े दिए?

क़ुरान की प्रति इमेज कॉपीरइट PMOIndia

ईरान यात्रा के दौरान भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ईरान के सुप्रीम लीडर आयतुल्लाह ख़ामेनेई को सदियों पुराने धर्मग्रंथों की प्रतियां तोहफ़े में दी हैं.

उन्होंने ख़ामेनेई को सातवीं सदी के कूफ़ी लिपि में लिखे गए क़ुरान की विशेष रूप से तैयार कराई गई कॉपी भेंट की. ये रामपुर की रज़ा लाइब्रेरी में रखी हुई है और हज़रत अली से संबंधित है.

प्रधानमंत्री ने राष्ट्रपति हसन रूहानी को मिर्ज़ा असदुल्लाह ख़ान ग़ालिब की फ़ारसी रचनाओं के संग्रह की विशेष तौर पर तैयार कराई गई प्रति भेंट की.

इमेज कॉपीरइट PMOINDIA

1863 में प्रकाशित हुई ग़ालिब की कुलियात-ए-फ़ारसी-ए-ग़ालिब में कुल 11 हज़ार पद हैं.

प्रधानमंत्री की ओर से राष्ट्रपति रूहानी को सुमैर चंद की फ़ारसी में अनुवादित रामायण की कॉपी भी भेंट की गई.

इस रामायण का फ़ारसी अनुवाद 1715 में किया गया था.

इमेज कॉपीरइट PMOIndia

ये भी भारतीय संस्कृति मंत्रालय की रामपुर रज़ा लाइब्रेरी में रखी गई है.

इससे पहले प्रधानमंत्री मोदी ने अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा को गीता भेंट की थी.

मोदी ने जापानी सम्राट अकीहीतो और प्रधानमंत्री शिंज़ो आबे को भी गीता भेंट की थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार