अफ़्रीकी मूल के चार लोगों पर हमला

हैदराबाद में अफ्रीकी नागरिकों का प्रदर्शन इमेज कॉपीरइट Getty

कांगो के एक नागरिक की दिल्ली में हत्या के बाद चार अन्य मामले सामने आए हैं जिनमें कथित रूप से अफ़्रीकी मूल के लोगों के साथ मारपीट की गई है.

ये चारों घटनाएं दक्षिणी दिल्ली के अलग-अलग इलाक़ों में गुरुवार रात साढ़े नौ से साढ़े ग्यारह बजे के बीच हुई.

पुलिस के मुताबिक हिंसा के शिकार हुए चारों अफ़्रीकी मूल के नागरिक कई साल से दिल्ली में रह रहे थे.

दो मामलों में शिकायतकर्ता महिलाएं हैं जिनमें एक युगांडा की है जबकि एक अन्य दक्षिण अफ़्रीक़ा की नागरिक है. बाक़ी के दो शिकायतकर्ता नाइजीरिया के नागरिक हैं.

दक्षिणी दिल्ली के डीसीपी ईश्वर सिंह ने बीबीसी को बताया कि, "ये कोई नियोजित हमले नहीं थे. ये अलग-अलग जगहों पर, अलग-अलग लोगों के साथ अलग-अलग मुद्दों पर हुई घटनाएं हैं और इनमें नस्लभेदी हिंसा जैसी कोई बात नहीं है."

उन्होंने बताया कि एक मामले में अफ्रीकी नागरिक पार्टी कर रहे थे और बहुत तेज़ म्युज़िक चला रहे थे. स्थानीय लोगों ने जाकर शिकायत की जिसे लेकर उनमें झड़प हो गई. हालांकि किसी को कोई चोट नहीं आई. ये झगड़ा नाइजीरियाई नागरिक केनेथ के साथ हुआ था. ये घटना राजपुर खुर्द में हुई थी.

पुलिस के मुताबिक़ एक अन्य घटना मैदानगढ़ी में सार्वजनिक जगह पर शराब पीने को लेकर थी. इसमें लॉकी नाम के एक नाइजीरियाई नागरिक शामिल थे. ऊंची आवाज़ में बात करने की वजह से इनका स्थानीय लोगों से झगड़ा हुआ जिसमें उन्हें नाक में चोट लगी.

ईश्वर सिंह ने दो अन्य घटनाओं की जानकारी देते हुए कहा कि दो महिलाएं चर्च से लौट रही थीं, किसी ने उनपर कॉमेंट किया और झगड़ा हो गया.

उन्होंने बताया कि ये महिलाएं शिकायत भी दर्ज नहीं करवाना चाहती थीं, लेकिन पुलिस ने अपनी तरफ़ से शिकायत दर्ज कर अभियुक्तों की तलाश शुरू कर दी है.

ईश्वर सिंह के मुताबिक अभियुक्तों की पहचान हो गई है औ जल्द ही उन्हें पकड़ लिया जाएगा.

पुलिस का दावा है कि ये चारों मामले अलग-अलग हैं और इनका कांगो में भारतीय नागरिकों के साथ हुई हिंसा से कोई संबंध नहीं है जो कांगो के एक नागरिक की दिल्ली में हुई हत्या के बाद भड़की थी.

कांगो के नागरिक मसोन्डा केटाडा ओलिवर की हत्या के बाद अफ्रीकी देशों के राजनयिकों ने गुरुवार को चिंता व्यक्त की थी जिसके बाद भारत ने उन्हें अफ्रीकी देशों के नागरिकों की सुरक्षा का आश्वासन दिया है. पुलिस का ये भी दावा है कि पिछले दिनों हुई घटनाओं के पीछे नस्लभेद वजह नहीं है. हालांकि इसकी अभी पुष्टि नहीं हुई है.

पिछले हफ़्ते 23 साल के कांगो के नागरिक ओलिवर की दिल्ली के वसंत कुंज इलाक़े में तीन लोगों ने ऑटो रिक्शा किराए पर लेने को लेकर हुई बकझक के बाद कथित रूप से पीट-पीट कर हत्या कर दी थी. इस मामले के दो अभियुक्तों को गिरफ़्तार किया गया है, लेकिन तीसरा अभी पकड़ा नहीं जा सका है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार