अफ़्रीकियों पर हमला 'नस्लीय' कतई नहीं: पुलिस

  • 29 मई 2016
इमेज कॉपीरइट GETTY

दिल्ली में गुरुवार को अफ्रीकी मूल के लोगों पर हुए हमले से जुड़े मामले में पुलिस ने चार लोगों को गिरफ्तार किया है, साथ ही एक अन्य को हिरासत में भी लिया गया है.

गुरुवार को चर्च से लौट रही अफ्रीकी मूल की दो महिलाओं पर स्थानीय निवासी के छींटाकशी के बाद बात मारपीट तक पहुंच गई थी.

दक्षिणी दिल्ली के डीसीपी ईश्वर सिंह ने बीबीसी बताया, "महरौली थाने के दोनों गांव मैदानगढ़ी और राजपुर खुर्द बेहद पारंपरिक गांव है. यहां हुई घटना को मीडिया जिस तरह से पेश कर रही है कि ये नस्लीय हमला है, ऐसा कतई नहीं है."

विदेश राज्य मंत्री जनरल (सेवानिवृत्त) वीके सिंह ने इस मामले पर ट्वीट करते हुए कहा, "दिल्ली पुलिस के साथ विस्तार से चर्चा की और पाया कि राजपुर खुर्द में अफ़्रीकी मूल के नागरिकों के साथ हुई छोटी घटना को मीडिया बढ़ा-चढ़ा कर बता रहा है."

उन्होंने आगे ट्वीट किया, "मीडिया ऐसा क्यों कर रही है? देश के जिम्मेदार नागरिक होने के नाते हमें उनके इस मकसद पर सवाल उठाने चाहिए."

इमेज कॉपीरइट VIJAY KUMAR SINGH TWITTER

इससे पहले, विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने रविवार को गृह मंत्री राजनाथ सिंह और दिल्ली के उप राज्यपाल नजीब जंग से अफ्रीकी छात्रों की सुरक्षा पर बातचीत की.

इससे पहले, गृहमंत्री राजनाथ ने दिल्ली पुलिस को हमलावरों के ख़िलाफ़ सख़्त कदम उठाने के आदेश दिए.

राजनाथ सिंह ने उन इलाकों में पुलिस गश्त बढ़ाने के लिए भी कहा है जिन इलाकों में अफ्रीकी मूल के लोग रहते हैं.

सुषमा स्वराज ने भी कहा है कि इन इलाकों में जागरूकता अभियान चलाए जाएगा.

सुषमा स्वराज ने विदेश राज्य मंत्री जनरल (सेवानिवृत्त) वीके सिंह और विदेश सचिव अमर सिन्हा से कहा कि वे अफ़्रीकी छात्रों से मुलाक़ात करें.

स्वराज ने ट्वीट किया, "मैंने दक्षिणी दिल्ली में अफ्रीकी मूल के लोगों पर हमले के मामले में राजनाथ सिंह और दिल्ली के गर्वनर से बात की है. उन्होंने आश्वासन दिया है कि दोषियों को जल्द से जल्द गिरफ्तार किया जाएगा. जिन इलाकों में अफ्रीकी मूल के लोग रहते हैं वहां जागरूकता अभियान भी शुरू किए जाएंगे."

इमेज कॉपीरइट AFP

बीबीसी से बातचीत में दक्षिणी दिल्ली के डीसीपी ईश्वर सिंह ने कहा था, "महिलाओं ने 'उस तरह' के कपड़े पहने थे, उनका पहनावा स्थानीय लोगों के अनुरूप नहीं था."

दिल्ली में ही कांगो के एक छात्र की हत्या के बाद अफ़्रीकी देशों के राजनयिकों ने भारत सरकार के अफ़्रीका डे समारोह के बहिष्कार की घोषणा की थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार