'किसानों की मौत और मोदी का जश्न'

अपनी सरकार के दो साल पूरे होने के मौक़े पर इंडिया गेट पर एक भव्य कार्यक्रम में प्रधानमंत्री के भाषण की हर तरफ़ अख़बारों में चर्चा है.

कई अख़बारों ने भ्रष्टाचार की समाप्ति के उनके बयान को हेडलाइन बनाया है तो कहीं बदलाव आने की उनकी बात को तवज्जो दी गई है.

हिंदुस्तान टाइम्स लिखता है कि प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि सरकार ने पारदर्शिता बढ़ाने के लिए क़दम उठाए हैं उससे केंद्र और राज्य पहले से कहीं ज़्यादा अमीर हुए हैं.

अख़बार में कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी का ये बयान भी है कि किसान मर रहे हैं और सरकार जश्न मना रही है.

पायोनियर ने 'एक नई सुबह' नाम के मेगा कार्यक्रम की तस्वीर के साथ ही लिखा है कि इसमें केंद्रीय मंत्रियों से लेकर फ़िल्म स्टार तक सब शामिल हुए.

इमेज कॉपीरइट DD News

वहीं संडे स्टेट्समैन ने भ्रष्टाचार को ख़त्म करने के प्रधानमंत्री मोदी के संकल्प को अपनी हेडलाइन बनाया है.

साथ ही अख़बार ने अर्थव्यवस्था के मुद्दे पर पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने जिस तरह मोदी सरकार को घेरा है, उसे भी पहले पन्ने पर जगह दी है.

संडे ट्रिब्यून के जम्मू-कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ़्ती के इस बयान को प्रमुखता से छापा है कि कश्मीर घाटी में कश्मीरी पंडितों को पूरी गरिमा के साथ वापस लाया जाएगा.

लेकिन राज्य के सुरक्षा हालात पर सवाल उठाते हुए उन्होंने कहा कि कैसे 25 साल पहले कश्मीर को छोड़ने वाले पंडितों से तुरंत लौटने को कह सकते हैं जबकि हमारे राजनीति कार्यकर्ता भले ही वो पीडीपी के हों, बीजेपी के हों या नेशनल कांफ्रेंस या किसी अन्य पार्टी के, वो सभी श्रीनगर सुरक्षा के बीच होटलों में रह रहे हैं.

उन्होंने कश्मीरी पंडितों के लिए अलग से कालोनी बनाने पर भी सवाल उठाए.

इमेज कॉपीरइट AFP

हिंदुस्तान टाइम्स ने पहले पन्ने पर एक ग्राफिक्स छापा है जिसमें आज होने वाले आईपीएल-9 के मुक़ाबले को बिग फाइट बताया है. अख़बार ने रॉयल चैलेंजर्स बंगलौर और सनराइज़र्स हैदराबाद के इस मैच को डेविड वार्नर बनाम विराट कोहली बताया है.

इसके अलावा दक्षिणी दिल्ली में कुछ अफ्रीकी नागरिकों पर फिर हमले होने की ख़बर है.

स्टेट्समैन की ख़बर है कि सरकार की तरफ़ से अफ्रीकी नागरिकों की पूरी सुरक्षा का भरोसा दिए जाने के बाजवदू बीते गुरुवार को युगांडा, कैमरून और नाइजीरिया के 7 लोगों पर अज्ञात लोगों ने हमला किया. वहीं पुलिस इस मामले में नस्लवाद होने से इनकार कर रही है.

मेघायल में कांग्रेस पर नजर रख रही है बीजेपी. ये ख़बर है एशियन एज में.

इमेज कॉपीरइट AFP

अख़बार लिखता है कि असम में अपनी सरकार बनने के बाद अब भाजपा की नज़रें मेघालय के घटनाक्रम पर टिकी हैं जहां कांग्रेस मुख्यमंत्री पवन संगमा को अपनी पार्टी के भीतर विरोध का सामना करना पड़ रहा है.

लेकिन अख़बार कहता है कि उत्तराखंड में ऐसी ही परिस्थितियों में अपने हाथ जला चुकी भाजपा मेघालय में बहुत सावधान से काम ले रही है.

और आख़िर में ज़िक्र हिंदुस्तान टाइम्स की ख़बर का जिसकी सुर्खी है- तीन तलाक़ के ख़िलाफ़ आवाज़ हुई तेज. अख़बार कहता है कि अब ऐसी पढ़ी लिखी मुस्लिम महिलाओं की तादाद बढ़ रही है जो पर्सनल लॉ का विरोध कर रही है और एकतरफ़ा तलाक़ देने के लिए तीन तलाक़ पर प्रतिबंध की मांग कर रही हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty

अख़बार की रिपोर्ट में कई ऐसी महिलाओं का ज़िक्र है जो इसके ख़िलाफ़ आवाज़ बुलंद कर रही हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)