दुर्घटनाग्रस्त विमान के साथ सेल्फ़ी की होड़

इमेज कॉपीरइट Enrico Fabian

देश की राजधानी दिल्ली के बाहरी इलाके में इंजन में खराबी के कारण खेतों में लैंड कराया गया हल्के वज़न का एयर एंबुलेंस लोगों के आकर्षण का केंद्र बन गया है.

एक सप्ताह से खेत में पड़े इस ख़राब विमान को देखने के लिए झुंड के झुंड लोग आ रहे हैं और विमान के सामने खड़े होकर सेल्फ़ी ले रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट Enrico Fabian

पुलिस के अनुसार, पिछले मंगलवार से दक्षिणी पश्चिमी दिल्ली के खैर गांव के खेतों में हर दिन सैकड़ों लोग यहां आ रहे हैं.

लोग मोटरसाइकिलों और कारों से यहां आ रहे हैं और विमान के साथ सेल्फी ले रहे हैं.

यहां आइसक्रीम और खोंमचे वाले भी पहुंच गए हैं. इसे देखने आने वाले लोग आइसक्रीम का लुत्फ़ उठाते हुए ग्रुप फोटो ले रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट Enrico Fabian

सपरिवार 'विमान दर्शन' करने आए एक आॅटो रिक्शा ड्राइवर ने कहा, "मैं तो यहां इसलिए आया कि मैं देखना चाहता था दूसरे लोग यहां क्यों आ रहे हैं, मैंने टीवी में इस ख़बर को देखा था, मैं अपने परिवार को हवाई जहाज़ दिखाना चाहता था, शुक्र है कि इस दुर्घटना में कोई हताहत नहीं हुआ."

अपने पूरे परिवार के साथ विमान देखने आई गृहणी भानवती के मुताबिक, उन्होंने अपनी जिंदगी में पहली बार इतने करीब से किसी हवाई जहाज को देखा है.

ज़्यादातर लोग विमान के साथ क़रीब से अपनी फ़ोटो लेना चाहते हैं.

बीचक्राफ्ट किंग एयर सी-90 विमान में सवार सात यात्रियों सुरक्षित बच गए थे.

इमेज कॉपीरइट Enrico Fabian

यह विमान बिहार राज्य की राजधानी पटना से मरीज़, उसके डॉक्टर और संबंधियों को गुडगांव के अस्पताल में लेकर आ रहा था.

पायलट को जब इंजन की खराबी का पता चला तो उसने दिल्ली एयरपोर्ट पर विमान को उतारने की इजाज़त मांगी, लेकिन आपातकालीन परिस्थितियों के कारण जहाज़ को दस किलोमीटर पहले ही उतारना पड़ा.

इमेज कॉपीरइट Enrico Fabian

दुर्घटना के समय इस जगह से कुछ सौ मीटर दूर एक भवन निर्माण में जुटे मजदूर अनिल राठौड़ कहते हैं, "मुझे याद है कि कैसे नीचे आते हुए विमान के पहिए बाहर निकल रहे थे. हम लोग काम छोड़कर भाग खड़े हुए थे."

इस विमान को अभी इस जगह से हटाया नहीं गया है.

इमेज कॉपीरइट Enrico Fabian

विमान के मालिक आल्केमिस्ट एयरवेज़ ने मलबे को उठाने के लिए तकनिशियनों की टीम भेज दी है.

भारतीय विमान नियामक ने इस दुर्घटना पर जांच बैठा दी है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार