मोदी के बनारस में महिलाओं को हथियारबंद ट्रेनिंग

इमेज कॉपीरइट ROSHAN JAISWAL

विश्व हिंदू परिषद (वीएचपी) प्रधानमंत्री मोदी के संसदीय क्षेत्र बनारस में महिलाओं को हथियारबंद ट्रेनिंग दे रहा है.

अयोध्या में वीएचपी के ट्रेनिंग कैम्प के वीडियो सामने आने के बाद काफ़ी विवाद हुआ था, वीएचपी राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़ा संगठन है.

इमेज कॉपीरइट ROSHAN JAISWAL

पिछले कुछ दिनों से बनारस में वीएचपी की महिला इकाई 'दुर्गावाहिनी' और 'मातृशक्ति' की हथियारबंद ट्रेनिंग जारी है, बताया जा रहा है कि आतंकियों से निबटने की तैयारी के तहत ये ट्रेनिंग दी जा रही है.

वाराणसी के वीएचपी कार्यालय के क़रीब भारतीय शिक्षा मंदिर नामक स्कूल में कुछ दिनों से चल रहे ट्रेनिंग कैम्प में 11 ज़िलों की 100 लड़कियाँ और महिलाएं शामिल हैं.

इमेज कॉपीरइट ROSHAN JAISWAL

ट्रेनिंग कैम्प की अधिकारी कमला मिश्रा ने बीबीसी को बताया कि "इस ट्रेनिंग का मक़सद लड़कियों और महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाना और आतंकवादियों से लोहा लेना है".

इमेज कॉपीरइट ROSHAN JAISWAL

उन्होंने बताया, "महिलाओं को ये ट्रेनिंग इसलिए भी दी जा रही है, क्योंकि आतंकी महिलाओं के हाथो नहीं मरना चाहते हैं. आतंकी मानते हैं कि महिला के हाथों मरने के बाद उन्हें जन्नत नहीं मिलेगी और वो भाग जाते हैं.

इमेज कॉपीरइट ROSHAN JAISWAL

ट्रेनिंग के लिए पेशेवर ट्रेनर लगाए गए हैं, ट्रेनिंग लेने के लिए कुंडा क़स्बे से आई रूपाली बताती हैं कि इस ट्रेनिंग के जरिए वे आत्मरक्षा के साथ आतंकी से भी निपट सकती हैं.

एयर गन चलाने की ट्रेनिंग ले रही मोनी ने बताया कि वो ये ट्रेनिंग घरवालों की अनुमति से ले रहीं हैं ताकि इसके बाद वो अपने गाँव पहुँचकर और भी लोगों को सिखा सकें.

इमेज कॉपीरइट ROSHAN JAISWAL

कौशांबी ज़िले से आई सुषमा सोनकर ने बताया कि आज का जो समय चल रहा है, उसके मुताबिक़ लाठी, कराटे और राइफल चलाना आना चाहिए. वहीं अधेड़ उम्र की बनारस की प्रतिज्ञा देवी ने बताया कि वो ये ट्रेनिंग आत्मनिर्भर होने के लिए ले रहीं हैं.

इमेज कॉपीरइट ROSHAN JAISWAL

शिविर में ट्रेनर रिचा वर्मा ने बताया कि ऐसा नहीं है की इस कैम्प में सिर्फ बन्दूक चलाने की ही ट्रेनिंग दी जा रही है, यहँ लाठीबाज़ी,कराटे, योग और शरीर को फिट रखने का भी तरीका बताया जा रहा है.

वीएचपी के संगठन अधिकारी दिवाकर का कहना है कि देश पर जो संकट है उससे निबटने के लिए राष्ट्र रक्षा, समाज रक्षा और आत्मरक्षा के लिए ये 'शौर्य प्रशिक्षण शिविर' लगा है.

इमेज कॉपीरइट ROSHAN JAISWAL

उनका कहना है, "ज़रूरत पड़ने पर सेना की दूसरी पंक्ति के रूप में जहाँ बजरंग दल खड़ा होगा, उसी तरह से दुर्गावाहिनी की बहनें भी खड़ी होंगी. हर साल प्रांत के अलग-अलग हिस्सों में महिलाओं का शौर्य प्रशिक्षण शिविर लगता आया है और इस बार 10 साल बाद ये अवसर आया है जब काशी में ये शिविर आयोजित किया गया है".

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार