जब वीडियो बना फिर से परीक्षा की वजह

इमेज कॉपीरइट AFP

बिहार सरकार 12 वीं की परीक्षा में अव्वल रहे 14 छात्रों की फिर से परीक्षा लेगी क्योंकि ऐसा कहा जा रहा है कि इन लोगों ने नक़ल की है.

सरकार ने यह फ़ैसला एक टीवी चैनल पर आए 17 वर्षीय रूबी राय के इंटरव्यू को देखने के बाद लिया है. रूबी ने इस साल आर्ट्स सब्जेक्ट में टॉप किया है.

रूबी ने स्थानीय पत्रकार से बातचीत में पॉलिटिकल साइंस (राजनीति विज्ञान) को खान-पान से जुड़ा विषय बताया था.

पिछले साल भी कई अभिभावक जब स्कूल की दीवार पर चढ़ कर अपने विद्यार्थियों को चोरी करा रहे थे तब उनकी एक फ़ोटो ली गई थी. जो वाइरल हो गई थी.

पिछले वर्ष भी परीक्षा के दौरान नक़ल कराए जाने की लगातार छपी ख़बरों से सरकार को काफी शर्मिंदगी का सामना करना पड़ा था.

इस वर्ष सरकार ने परीक्षा के दौरान कराई जाने वाली नक़ल पर अंकुश लगाने के लिए, ज़ुर्माना और जेल की सज़ा की घोषणा की थी.

इमेज कॉपीरइट AP

इस घोषणा का असर पिछले दिनों आए रिज़ल्ट में देखने को मिला. इस वर्ष बहुत ही खराब परिणाम देखने को मिला है.

सरकार ने रूबी के साथ-साथ साइंस सब्ज़ेक्ट में अव्वल आने वाले सौरभ श्रेष्ठ के रिज़ल्ट को तत्काल प्रभाव से निरस्त कर दिया है. सौरभ भी पत्रकार द्वारा रसायन विज्ञान के पूछे गए साधारण सवालों का जवाब नहीं दे पाए थे.

बिहार शिक्षा बोर्ड के अध्यक्ष लालकेश्वर प्रसाद सिंह ने मीडिया को बताया कि इन दोनो छात्रों के साथ 12 अन्य छात्र जिन्होंने इस परीक्षा में बहुत अच्छे अंक प्राप्त किए हैं, उनकी तीन जून को फिर से लिखित परीक्षा ली जाएगी. इनका इंटरव्यू भी लिया जाएगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहाँ क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार