'पैसा नहीं चाहिए, सीएम मेरा बेटा लौटाएं'

मथुरा की घटना के दौरान मोर्चा संभाले पुलिस के जवान. इमेज कॉपीरइट AFP

मथुरा में गुरुवार को हुई हिंसा में दो पुलिस अधिकारियों समेत 24 लोगों की मौत हो गई.

उत्तर प्रदेश के पुलिस प्रमुख जावेद अहमद ने शुक्रवार को मथुरा में कहा कि हमले में 23 पुलिसकर्मी बुरी तरह से घायल हुए हैं.

गुरुवार की हिंसा में मारे गए पुलिस अधीक्षक मुकुल द्विवेदी की मां ने कहा है उन्हें सरकार द्वारा घोषित मुआवजा नहीं चाहिए. उन्होंने कहा, "मुझे पैसा नहीं चाहिए. मुख्यमंत्री को मेरा बेटा लौटाना चाहिए. मुख्यमंत्री हमसे 20 लाख रुपए ले सकते हैं, लेकिन कृपया मेरा बेटा वापस ला दें. मेरे बेटे को मरवाने के लिए मथुरा भेजा. अब हम क्या करेंगे."

उत्तर प्रदेश सरकार ने गुरुवार को हिंसा में मारे गए दो पुलिस अफ़सरों के आश्रितों को 20-20 लाख रुपए का मुआवजा देने की घोषणा की थी.

अहमद ने एक प्रेस कांफ्रेस में कहा गुरुवार शाम पुलिस की एक टुकड़ी जब हाई कोर्ट के आदेश पर जवाहर बाग़ की रेकी करने गई थी. उसके पास हथियार नहीं थे.

तस्वीरों में देखें मथुरा में हुई हिंसा

उन्होंने कहा कि बाग़ में मौज़ूद उपद्रवियों ने इस पुलिस टुकड़ी पर उस पर हमला कर दिया.

इमेज कॉपीरइट VIJAY KUMAR ARYA

उन्होंने बताया कि पुलिस बल पर पेड़ पर चढ़े उपद्रवियों ने फ़ायरिंग की और नीचे मौज़ूद उपद्रवियों ने लाठी-डंडों और ईंट-पत्थरों से हमला किया.

पुलिस प्रमुख ने बताया कि जवाहर बाग़ से भागते हुए उपद्रवियों ने अपनी झोपड़ियों में आग लगा दी. इससे उसमें रखे गैस सिलेंडर और गोला-बारूद में विस्फ़ोट हो गया.

उन्होंने बताया कि अब जवाहर बाग़ को पूरी तरह से ख़ाली करा लिया गया है.

पुलिस प्रमुख के मुताबिक़ इस घटना में 11 लोगों की मौत झोपड़ियों में लगी आग में झुलसने से हुई और 11 मौत लाठी-डंडों की चोट से मारे गए हैं. मृतकों में एक महिला भी शामिल है.

इमेज कॉपीरइट VIVEK JAIN

अहमद ने बताया कि पुुलिस ने जवाहर बाग़ से 47 कट्टा (देसी पिस्तौल), छह राइफल और 178 ज़िंदा कारतूस बरामद किए हैं.

वहां से 15 बड़ी गाड़ियां और छह मोटरसाइकिलें पकड़ी गई हैं. पुलिस प्रमुख ने कहा कि इन गाड़ियों की जांच कर उनके मालिकों और हमले में शामिल लोगों के बारे में पता लगाया जाएगा.

उन्होंने बताया कि इस मामले में अभी तक 124 लोगों को गिरफ्तार किया गया है और 196 अन्य को हिरासत में लिया गया है. पुलिस ने 116 महिलाओं को सीआरपीसी की धारा-151 के तहत गिरफ्तार किया है.

जावेद अहमद ने बताया कि गिरफ्तार लोगों पर राष्ट्रीय सुरक्षा क़ानून (एनएसए) लगाने की कार्रवाई की जा रही है.

इमेज कॉपीरइट Vivek Kumar Jain

उन्होंने बताया कि घटना में शामिल संगठन के प्रमुख लोग रामवृक्ष यादव के बारे में स्थिति अभी साफ़ नहीं है. लेकिन अगर वो ज़िदा है तो हम उन्हें छोड़ेंगे नहीं.

मथुरा के जवाहर बाग़ पर पिछले क़रीब तीन साल से कथित तौर पर धरना दे रहे लोग गुरुवार को उस समय हिंसक हो गए जब प्रशासन ने उन्हें बाग़ से अवैध कब्ज़ा हटाने का नोटिस दिया.

इस घटना में एक थानाध्यक्ष संतोष यादव और मथुरा के पुलिस अधीक्षक (शहर) मुकुल द्विवेदी की मौत हो गई थी.

इमेज कॉपीरइट AFP

स्थानीय पत्रकार विवेक जैन के मुताबिक़ इन दोनों अधिकारियों की पोस्टमार्टम रिपोर्ट आ गई है.

उन्होंने बताया कि मुकुल द्विवेदी की पोस्ट मार्टम रिपोर्ट में मौत का कारण लाठी-डंडे और धारदार हथियार से हुए घाव को बताया गया है.

वहीं संतोष यादव की पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मौत का कारण ऊंचाई से चलाई गई गोली को बताया गया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉयड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार