बिहार टॉपर्स घोटाले में एफ़आईआर दर्ज

इमेज कॉपीरइट biharpictures.com

सोमवार रात इंटरमीडिएट परीक्षा के दो पूर्व टाॅपर्स समेत चार छात्रों के ख़िलाफ़ पटना के कोतवाली थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई.

उन्होंने जिन छात्रों पर मुक़दमा दर्ज कराया है, उनके नाम शालिनी राय, सौरभ श्रेष्ठ, राहुल कुमार और रूबी कुमार हैं.

बिहार शिक्षा विभाग के माध्यमिक शिक्षा निदेशक राजीव प्रसाद सिंह ने एफ़आईआर दर्ज कराई है.

एफ़आईआर में परीक्षा और मूल्यांकन केंद्र की सहायता से मनमाने तरीक़े से रिजल्ट हासिल करने का आरोप लगाया गया है.

इमेज कॉपीरइट biharpictures.com

इसके अलावा वैशाली के विशुन देव राय काॅलेज पर संस्थागत रूप से आपराधिक गतिविधियों में शामिल होने की बात कही गई है.

सौरभ, राहुल और रूबी ने विशुन देव राय कॉलेज से परीक्षा दी थी.

शिक्षा विभाग ने विशुन देव राय काॅलेज के प्रबंधन, इस काॅलेज के परीक्षा और मूल्यांकन केंद्र के अधीक्षक समेत कई अन्य अज्ञात लागों पर भी एफ़आईआर दर्ज कराई है.

10 मई को जारी इंटरमीडिएट साइंस रिजल्ट में सौरभ श्रेष्ठ टाॅपर रहे थे. राहुल कुमार को इंटरमीडिएट साइंस में तीसरा स्थान मिला था.

लेकिन विवाद सामने आने के बाद तीन जून को हुई जांच परीक्षा में ये टॉपर फेल घोषित कर उनके रिज़ल्ट को रद्द कर दिया गया.

इमेज कॉपीरइट biharpictures.com

वहीं तीन जून की जांच परीक्षा में शामिल नहीं होने वाली इंटरमीडिएट आर्ट्स टाॅपर रूबी कुमारी को एक और मौक़ा देते हुए 11 जून को दोबारा जांच के लिए बुलाया गया है.

सोमवार दोपहर ही बिहार के मुख्यमंत्री ने 'टापर्स घोटाले' की जांच से संबंधित बिहार विद्यालय परीक्षा समिति और शिक्षा विभाग की समितियों को भंग करते हुए इसकी जांच का ज़िम्मा बिहार पुलिस को सौंपा था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार