10 चीनी नागरिकों को भारत छोड़ने का नोटिस

  • 14 जून 2016
इमेज कॉपीरइट Manasi Dash

ओडिशा सरकार ने अडानी समूह की एक कंपनी के लिए काम कर रहे 10 चीनी नागरिकों को भारत छोड़ने का नोटिस जारी किया है.

चीनी नागरिकों को 17 जून तक भारत छोड़ने को कहा गया है. लेकिन पुलिस का कहना है कि इनमें से दो चीनी नागरिक लापता हैं. उनका कोई सुराग़ नहीं मिल पा रहा है.

ओडिशा के गृह सचिव ने बताया कि नोटिस केंद्र सरकार के निर्देश पर दिया गया है, क्योंकि भद्रक से 15 किलोमीटर दूर 'व्हीलर आइलैंड' या एपीजे अब्दुल कलाम टापू है, जहां भारत का संवेदनशील सुरक्षा प्रतिष्ठान है.

इसी टापू से आकाश, अग्नि, धनुष और पृथ्वी जैसी मिसाइलों का प्रक्षेपण किया जाता है.

इमेज कॉपीरइट Getty

सरकार के मुताबिक़ कुल 19 चीनी नागरिक अडानी ग्रुप की धामरा पोर्ट कंपनी की विस्तारीकरण परियोजना में काम करने भारत आए थे. ये सभी व्यावसायिक वीज़ा पर थे जबकि उन्हें काम के वीज़ा पर होना चाहिए था.

गृह सचिव असित त्रिपाठी ने पत्रकारों को बताया कि चीनी नागरिकों को भारत छोड़ने का नोटिस भद्रक के पुलिस अधीक्षक के मार्फ़त भेजा गया है ताकि समय के भीतर उसकी तामील कराई जा सके.

पुलिस अधीक्षक निहार रंजन दास का कहना है कि दो लापता चीनी नागरिकों का पता लगाने की कोशिश की जा रही है.

इमेज कॉपीरइट Ukrinform

अधिकारियों का कहना है कि जिस कंपनी में ये चीनी नागरिक काम कर रहे हैं, वो थाईलैंड की है. वह भारत में अडानी ग्रुप के लिए काम कर रही है.

जिन चीनी नागरिकों को नोटिस भेजा गया है, वो भद्रक की धामरा पोर्ट कंपनी के विस्तार के काम के लिए मिट्टी की जांच के काम में लगे हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार