इंसान का शिकार करने वाले तीन शेरों की आज़ादी गई

  • 15 जून 2016
शेर इमेज कॉपीरइट prashant dayal

गुजरात में गिर के जगंलों में इंसान का शिकार करने के शक़ में पकड़े गए 18 शेरों में से तीन दोषी पाए गए हैं.

इनमें से एक बूढ़ा शेर है जिसे जूनागढ़ के सक्करबाग चिड़ियाघर में भेजा जाएगा जबकि दो और शेरों के बर्ताव पर निगरानी रखी जाएगी.

दरअसल गिर के जंगलों से सटे गांवों में लोग में शेर का भय इतना बढ़ गया था कि पिछले दो महीनों से वो दिन में भी घरों से बाहर निकलने से डर रहे थे.

पिछले दो महीनों में शेरों के इंसानों पर हमले की 6 वारदातें हुई थीं. शेर दो पुरुषों और एक महिला को मारकर खा गए थे.

इमेज कॉपीरइट PRASHANT DAYAL

हाल में वन विभान के 18 शेरों को पकड़ने के बाद गांववाले राहत की सांस ली थी.

वन विभाग ने पकड़े गए शेरों की वैज्ञानिक जांच की और अब इनमें से दोषी पाए गए तीन शेरों को जूनागढ़ के सक्करबाग चिड़ियाघर में भेजा जाएगा.

बाकी शेरों को जंगल में छोड़ दिया जायेगा.

इमेज कॉपीरइट PRASHANT DAYAL

वन विभाग के नियमों के अनुसार जंगल में बसने वाला शेर अगर इंसान का शिकार करता है, तो उससे जंगल में रहने का अधिकार छीन लिया जाता है.

बीबीसी से बात करते हुए जूनागढ़ के मुख्य वन्य संरक्षक एपी सिंगने ने कहा, "जिन तीन शेरों की रिपोर्ट पॉज़िटिव पाई गई है, उसमें एक बूढ़ा शेर है. अंदाज़ा लगाया जा रहा है कि वो 5 से 9 वर्ष की आयु का है. उसे जूनागढ़ के सक्करबाग चिड़ियाघर भेज दिया गया है."

बाकी दो 'दोषी' शेरों की आयु दो से चार साल के बीच की है. उन्हें केरिंग हाउस में रखा जाएगा, जहां उनके व्यवहार पर निगरानी रखी जाएगी.

दोषी पाए गए शेर को पिंजड़े में बंद रखा जाता है क्योंकि एक बार इंसान का मांस खाने वाले शेरों को जंगल में नहीं छोड़ सकते हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार