दलित महिला रेप केस में संदिग्ध हिरासत में

केरल के पेरंबवूर में हुए दलित महिला रेप मामले में पुलिस ने एक संदिग्ध को हिरासत में लिया है.

रिपोर्ट के अनुसार रेप का संदिग्ध असम से आया आप्रवासी मज़दूर है.

पुलिस के मुताबिक़ संदिग्ध ने माना है कि उसने 30 साल की लॉ की छात्रा जीशा की हत्या कर उसके गुप्तांगों को चोट पहुंचाई थी. जीशा ने इस व्यक्ति के यौन संबंध बनाने की कोशिश को साफ़ तौर पर रोक दिया था.

पुलिस ने अभी तक संदिग्ध के बारे में कोई जानकारी नहीं दी है. न ही हत्या के पीछे के मकसद के बारे में बताया है.

स्थानीय मीडिया ने संदिग्ध की पहचान अमिरुल इस्लाम के रूप में की है.

28 अप्रैल को एरुविचिरा के कुरुप्पमपदी में दलित महिला अपने एक कमरे के घर में मृत पाई गई थी.

जिशा के घर के पास मिली ख़ून के धब्बे वाली चप्पल महत्वपूर्ण सुराग़ साबित हुई.

संदिग्ध को तलाशने के लिए प्रमुख रूप से असम और पश्चिम बंगाल में देशव्यापी अभियान चलाया गया. आख़िर उसे तमिलनाडु सीमा के पास पकड़ा गया.

इमेज कॉपीरइट Sreekesh R

केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने कहा है, “हां. वो व्यक्ति पुलिस के पास है. आपको जल्दी ही उसके बारे में सारी जानकारी मिल जाएगी.”

मामले को सुलझाने में हुई विफ़लता की वजह से पिछली सरकार को भारी विरोध-प्रदर्शनों का सामना करना पड़ा था. इसी बीच विजयन के दल ने पिछले महीने चुनाव जीता था.

घटना का एक भी प्रत्यक्षदर्शी नहीं मिलने के कारण जांचकर्ताओं ने फोरेंसिक और साइबर साक्ष्यों की मदद से जांच प्रक्रिया पूरी की.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार