'उड़ती अलका' और 'उड़ता कमलनाथ' हुए वायरल

अलका लांबा इमेज कॉपीरइट ALKA LAMBA FACEBOOK PAGE

आम आदमी पार्टी की नेता अलका लांबा को कथित रूप से पार्टी प्रवक्ता के पद से हटाए जाने का मामला और कमलनाथ का पंजाब कांग्रेस का प्रभारी पद छोड़ना सोशल मीडिया पर छाया हुआ है.

हालाँकि न तो 'आप' की ओर से और न ही अलका लांबा ने ही इसकी पुष्टि की है. अलका का कहना है कि उन्हें पार्टी की ओर से कोई सूचना नहीं मिली है.

लेकिन मीडिया में आई ख़बरों और सोशल मीडिया में दावा किया गया है कि अलका लांबा को गोपाल राय मामले में पार्टी लाइन से हटकर बोलने के कारण प्रवक्ता पद से हटाया गया है.

अलका लांबा ने कहा था कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के कहने पर गोपाल राय ने परिवहन मंत्री पद से इस्तीफ़ा दिया है. ग़ौरतलब है कि गोपाल राय के ख़िलाफ़ प्रीमियम बस सेवा मामले में जाँच चल रही है.

हालाँकि पार्टी ने कहा था कि गोपाल राय ने स्वास्थ्य कारणों से अपने पद से त्यागपत्र दिया है.

इमेज कॉपीरइट

अलका लांबा ने ट्विटर पर अपना पक्ष रखते हुए लिखा है- "मैं पार्टी की एक अनुशासित कार्यकर्ता हूँ और पार्टी के हर फैसले का सम्मान करती हूँ. मुझसे अनजाने में भी अगर कोई ग़लती हुई होगी तो मैं उसका पश्चाताप ज़रूर करुँगी, ताकि मेरी वजह से पार्टी की भ्रष्टाचार के ख़िलाफ़ लड़ाई को किसी भी तरह का कोई नुक़सान ना पहुँचे."

अलका लांबा के बारे में मीडिया में आई ख़बरों के बाद ट्विटर पर #UdtiAlka टॉप ट्रेंड्स में है.

दूसरी ओर कमलनाथ को पंजाब कांग्रेस का प्रभारी बनाए जाने के बाद 1984 सिख विरोधी दंगों में उनकी कथित भूमिका पर खासा विवाद हो रहा था.

हांलाँकि कमलनाथ सभी आरोपों से इनकार करते हैं और उन्होंने कहा है कि इसके पीछे राजनीति है और उन्होंने कांग्रेस महासचिव के पद से त्यागपत्र दे दिया है.

लेकिन कमलनाथ के त्यागपत्र को लेकर #UdtaKamalNath ट्विटर पर ट्रेंड करने लगा.

आइए देखते हैं अलका लांबा और कमलनाथ को लेकर लोग ट्विटर पर क्या कह रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट Other

राहुल सिंह ने लिखा है- आम आदमी पार्टी में सच क्या होगा, ये केजरीवाल ही फैसला करते हैं.

नीरज रायल (‏@neerajrayal1402) ने लिखा है- विचारों में मतभेद के कारण केजरीवाल हर किसी को हटा रहे हैं और वे मोदी को फासिस्ट कहते हैं. #UdtiAlka

केजरीवाल के पैरोडी अकाउंट ‏@AapKaKejru से लिखा गया - मोदी ने अलका लांबा को सच बोलने को मजबूर किया. मोदी को माफ़ी मांगनी चाहिए.

ट्विटर हैंडल ‏@Modiarmy ने लिखा है- अलका लांबा को इसलिए हटाया गया क्योंकि उन्होंने केजरीवाल की दी गई स्क्रिप्ट को देखे बिना बोलने की कोशिश की. #UdtiAlka

इमेज कॉपीरइट Other

कल्पना चौधरी ने ट्विटर हैंडल ‏@kalpanadivith से लिखा है- प्रतिभाशाली केजरीवाल जानते हैं कि अलका लांबा 21 उड़ते एमएलए की सूची में हैं. इसलिए वे उन्हें खुलकर उड़ने के लिए मुक्त कर रहे हैं.

इंजीनियर मयंक ने (‏@mayank10061990) ने लिखा है- आप ने गोपाल राय की घटना को लेकर अलका लांबा को हटाया है. उन्हें दुकानदारों को डराने पर ही ध्यान केंद्रित रखना चाहिए.

पुनीत अग्रवाल (‏@Punitspeaks) ने लिखा है- और वे कहते हैं कि भाजपा में अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता नहीं है.

‏@sunilsingh1235 ट्विटर हैंडल से सुनील सिंह ने लिखा है- ईमानदारी का नकली दंभ भरने वाली आम आदमी पार्टी ने सच बोलने वाली पार्टी प्रवक्ता को पद से हटा दिया. #UdtiAlka

दूसरी ओर कमलनाथ के त्यागपत्र पर भी लोग जमकर टिप्पणी कर रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट Other

बलविंदर शर्मा ने ट्विटर हैंडल ‏@bal_Sharma22 से लिखा है- कमलनाथ कभी पंजाब के थे ही नहीं. उनके लिए इस्तीफ़ा देना सबसे बेहतर रास्ता था.

‏@BiniCupcake हैंडल से बिनी ने लिखा है- अब कांग्रेस ने अपनी ग़लती समझ ली है.

नवजीत मान (‏@navmaan7) लिखते हैं- पंजाबी लोगों का सामना करने से डरकर कमलनाथ सिर्फ़ तीन दिन में ही पंजाब से ग़ायब हो गए.

इमेज कॉपीरइट Other

जसमीत सिंह मक्कड़ ने लिखा है- कैप्टन अमरिंदर सिंह इस पूरे मामले पर अपना रुख़ स्पष्ट करें.

सुखांत बेहड़ा ने ट्विटर हैंडल ‏@sukanta4557 से लिखा है- अगर आप निर्दोष थे, तो आपने त्यागपत्र क्यों दिया.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार