"मोदी जी ऐप चल रही है, किसान 'हैंग' हो गए"

  • 20 जून 2016
नरेंद्र मोदी ऐप इमेज कॉपीरइट Google Play

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सोशल मीडिया पर सबसे ज़्यादा सक्रिय विश्व नेताओं की सूची में शामिल हैं.

उन्होंने न सिर्फ़ अपने चुनाव प्रचार अभियान के दौरान सोशल मीडिया का जमकर इस्तेमाल किया बल्कि पीएम बनने के बाद वो अपनी सरकार की उपलब्धियां गिनाने के लिए भी इसका इस्तेमाल करते हैं.

लेकिन अब लोग उन्हें सोशल मीडिया पर ही घेरने लगे हैं.

सोमवार को जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लोगों से अपनी 'नरेंद्र मोदी मोबाइल एप्लीकेशन' को डाउनलोड करने का अनुरोध किया तो लोगों ने उन्हें घेर लिया.

धीरज (@AAPlogical) ने मोदी को जवाब देते हुए कहा, "सर, ये ऐप काम नहीं कर रही है, बिलकुल आपके जैसे."

पैरोडी अकाउंट डियर आरओएफ़एल गांधी (@RoflGandhi_) से ट्वीट किया गया, "सर, बहुत से किसानों ने अपने आइफ़ोन पर ऐप डाउनलोड की है. हैंगिंग की समस्या है. ऐप सही काम कर रही है, किसान हैंग हो रहे हैं."

कपिल (@kapsology) ने लिखा, "जब भी कोई यूज़र नरेंद्र मोदी मोबाइल ऐप चालू करता है फ़ोन फ़्लाइट मोड पर चला जाता है. कृपया ये समस्या सुधारिए."

इमेज कॉपीरइट Twitter

वहीं कुछ लोग इसी बहाने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के फ़्री वाई-फ़ाई के वादे पर भी टिप्पणियां कर रहे हैं.

बाबू भैया (‏@Shahrcasm) के नाम से चल रहे अकाउंट से लिखा गया, "अरविंद केजरीवाल ने फ्री वाई-फ़ाई का पासवर्ड ही नहीं दिया, कैसे अपडेट करूं?"

गुरप्रीत खरबंदा (@JeeEssKay ) ने लिखा, "इंटरनेट ही नहीं है. केजरीवाल हम दिल्ली वालों को फ़्री वाई-फ़ाई देने का अपना वादा ही पूरा नहीं कर रहे हैं."

वहीं उड़ता काका (‏@Udta_Mudi) ने प्रधानमंत्री को सलाह देते हुए कहा, "ऐप का नाम बदलकर उड़ता पीएम ऐप कर दीजिए."

इमेज कॉपीरइट Getty

पंकज मिश्रा (‏@pankajmishra23) ने पूछा, "नरेंद्र मोदी जी, क्या हम इस ऐप से दाल और टमाटर भी डाउनलोड कर सकते हैं?"

नरेंद्र मोदी ऐप को एंड्रॉयड पर क़रीब दस लाख लोग इस्तेमाल करते हैं. इस ऐप पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपनी सरकार से जुड़ी जानकारियां साझा करते हैं.

ऐप इस्तेमाल करने वाली निराली ( ‏@nrkhimani) ने ट्वीट किया, "सभी ख़बरें और घोषणाएं वक़्त पर मिल रही हैं."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार