सुब्रमण्यम के निशाने पर सुब्रमनियन

  • 22 जून 2016
इमेज कॉपीरइट PTI

भाजपा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी के हमलों के बाद रिज़र्व बैंक के गवर्नर रघुराम राजन ने कार्यकाल ख़त्म होने के बाद शिकागो यूनिवर्सिटी लौटने की घोषणा की है.

लेकिन अब स्वामी के निशाने पर हैं अर्थशास्त्री अरविंद सुब्रमनियन, जो भारत सरकार के मुख्य आर्थिक सलाहकार हैं.

इमेज कॉपीरइट twitter

स्वामी ने टाइम्स ऑफ़ इंडिया की एक ख़बर का लिंक लगाते हुए ट्वीट किया- "हाल फ़िलहाल तक इंटेलेक्चुअल प्रॉपर्टी राइट्स (आईपीआर) पर भारत का विरोध करने वाले अरविंद सुब्रमनियन मोदी के मुख्य सलाहकार हैं.

कुछ ही देर मे उन्होंने दूसरा ट्वीट किया- "किसने 13 मार्च 2013 को अमरीकी कांग्रेस से कहा था कि अमरीका को अपने फार्मास्युटिकल्स उद्योग के हितों की रक्षा करने के लिए भारत के ख़िलाफ़ कार्रवाई करनी चाहिए? अरविंद सुब्रमनियन! वित्त मंत्री उन्हें बर्ख़ास्त करो!"

इमेज कॉपीरइट twitter

बस फिर क्या था. कुछ ही देर मे अरविंद सुब्रमनियन ट्विटर पर ट्रेंड करने लगे.

पत्रकार पंकज चौधरी ने ट्वीट किया- "अब निशाने पर मुख्य आर्थिक सलाहकार अरविंद सुब्रमनियन हैं. अगला कौन? अरुण जेटली ?"

कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने ट्वीट किया- "सुब्रमण्यम स्वामी अब अरविंद सुब्रमनियन के पीछे पड़े है. अरविंद नहीं, अरुण जेटली हैं निशाने पर."

इमेज कॉपीरइट twitter

बाद में एक टीवी चैनल से बात करते हुए सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा कि अरविंद सुब्रमनियन ने वित्त मंत्रालय को सलाह दी थी कि जीएसटी पर जो आपत्तियां कांग्रेस उठा रही है सरकार को उन्हें मान लेना चाहिए.

स्वामी का कहना है कि उन्होंने 27 लोगों की सूची बनाई है और वो एक एक कर सबको बेनक़ाब करने का काम करेंगे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए