आग लगाने वाली 'नूरजहाँ दुपट्टे में..'

  • 23 जून 2016
माचिस इमेज कॉपीरइट Other

ये 1950 के दशक की माचिस है. माचिस की डिबिया पर उस ज़माने में कई फ़िल्मों की तस्वीरें होती थीं. यहाँ तक कि इन पर पाकिस्तानी फ़िल्मों को भी फ़ीचर किया जाता था. माचिस के डब्बों पर फ़िल्मों का प्रोमोशन 1950 के दशक में अपने शीर्ष पर था.

इमेज कॉपीरइट Other

माचिस पर भावनगर राजघराने का संकेत. हालाँकि इस पर जो संदेश दिए गए हैं उससे बहुत कुछ पता नहीं चल पा रहा है. माना जाता है कि यह माचिस राजघराने का ही था. भारत में माचिस के डब्बों के बारे में बहुत कम ही जानकारी मिल पाती है, क्योंकि उनका रिकार्ड नहीं रखा जाता था.

इमेज कॉपीरइट Other

अंबरनाथ और विमको माचिस अदन और बाक़ी कई अरब देशों तक निर्यात होता था. भारतीय भाषाओं में विमको लेबल के बहुत कम माचिस तैयार किए गए थे और यह बहुत दिनों तक नहीं चल सका.

इमेज कॉपीरइट Other

एई माचिसवाला लेबल के सल्फ़र की माचिस की डिबिया. यह कंपनी अपने ब्रांड के साथ शुरू में बंबई से माचिस का व्यवसाय करती थी. बाद में इसनें बंबई में ही माचिस उत्पादन के लिए बंबई में फ़ैक्ट्रियाँ स्थापित की. एई माचिसवाला दूसरे विश्व युद्ध के बाद तक माचिस का व्यापार करती रही.

इमेज कॉपीरइट Other

स्वदेशी आंदोलन की निशानी के रूप में माचिस की डिबिया पर बांग्ला में लिखा लेबल. बंगाल विभाजन के बाद ब्रिटिश वस्तुओं के बहिस्कार की अपील की गई थी. इस दौरान कई सारे वस्तुओं पर भारतीय भाषाओं में लेबल लगे होते थे और इसमें राष्ट्रीय भावना छुपी होती थी. 1920-30 के दशक में कई वस्तुओं पर लिखे गए लेबल में आज़ादी की लड़ाई के संघर्षों को देखा जा सकता था और उसमें माचिस की डिबिया भी एक थी.

इमेज कॉपीरइट Other

चमकते सूरज की निशानी के साथ विमको माचिस के बारह डब्बों के 'कलेक्टर्स एडिशन' का सेट. कलेक्टर्स एडिशन. 1970 और 1980 के दशक की शुरुआत में कार्डबोर्ड के माचिस के डब्बे बनाने में विमको सबसे आगे रहा था. उसने सीमति संख्या में कलेक्टर्स एडिशन तैयार किया था.

माचिस के इन डब्बों को इकट्ठा करने वाले गौतम हेमाडी का कहना है वो हमेशा से माचिस के डब्बों और उसके लेबल का संग्रह बनाना चाहते थे, लेकिन ये काम वो 2012 में ही शुरू कर पाए.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहाँ क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार