ध्यान लगा है बाज़ार संभालने पर: जयंत सिन्हा

  • 24 जून 2016
इमेज कॉपीरइट PTI

ब्रिटेन के यूरोपीय संघ से अलग होने के फैसले का भारतीय कारोबार जगत पर भी असर हुआ है. बाज़ार में तेजी से गिरावट आई है और ग्रेट ब्रिटेन के साथ कारोबारी रिश्तों को लेकर भी अनिश्चितता का माहौल बना है.

इस मसले पर भारत के वित्त राज्य मंत्री जयंत सिन्हा से बीबीसी संवाददाता शिल्पा कन्नन ने उनकी प्रतिक्रिया पूछी.

जयंत सिन्हा ने कहा, "ब्रिटेन के यूरोपीय संघ से अलग होने के फ़ैसले के बाद हमें सबसे पहले अपने बाज़ार को देखना होगा. पहले हमें देखना है कि कैपिटल मार्केट्स में किस तरह की उथल पुथल हो सकती है."

उन्होंने कहा, "हमें बाज़ार को संभालना होगा. अगले एक-दो सप्ताह तक हमें इस पर ध्यान देना होगा. इसके बाद हमें देखना होगा कि किस प्रकार से व्यापार होगा."

जयंत सिन्हा का कहना है, "व्यापार चाहे यूनाइटेड किंगडम से होता है या फिर यूरोपीय संघ के साथ होता है. इन देशों के साथ अपने व्यापार की व्यवस्था का हमें फिर से अध्ययन करना होगा और देखना होगा कि उसमें बदलाव की जरूरत है या नहीं."

उन्होंने कहा, "हमारी कई कंपनियां अब तक यूनाइटेड किंगडम के जरिए यूरोप के बाज़ार में प्रवेश करती थी, लेकिन अब तक आप आसानी से पूरे यूरोपीय संघ में कारोबार कर सकते थे, निवेश कर सकते थे. लेकिन अब ऐसा नहीं हो पाएगा."

वे कहते हैं, "अब उन्हें नई व्यवस्था अपनानी होगी. देखना होगा कि वे अपना कारोबार लंदन के अलावा और किन-किन देशों में ले जाते हैं, यह देखना होगा."

(बीबीसी संवाददाता शिल्पा कन्नन से बातचीत पर आधारित)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार