'ब्रिटेन ने यूरोप को काटा और बन गया द्वीप'

  • 25 जून 2016
द टाइ्स ऑफ़ इंडिया इमेज कॉपीरइट The Times of India

दुनियाभर के अख़बारों समेत आज भारतीय अख़बारों में भी ब्रितानी जनमत संग्रह से जुड़ी ख़बरों को प्रमुखता से प्रकाशित किया गया है.

'द हिंदू' और 'द टाइम्स ऑफ़ इंडिया' ने शुक्रवार सुबह की ब्रितानी संसद के क़रीब ली गई तस्वीर प्रकाशित की है जिसमें पूर्व प्रधानमंत्री विंस्टन चर्चिल की प्रतिमा ब्रितानी संसद की ओर झुकी दिख रही है.

'द हिंदू' लिखता है, "ब्रिटेन कास्ट्स ए डार्क शैडो ओवर यूरोप" यानी ब्रिटेन ने यूरोप पर गहरी परछाई डाली.

वहीं 'द टाइम्स ऑफ़ इंडिया' ने रचनात्मक शीर्षक देते हुए लिखा है, "यूके कट्स यूरोप, बिकम्स एन आईलैंड" यानी ब्रिटेन ने यूरोपीय संघ को काटा, एक द्वीप बना.

'द इंडियन एक्सप्रैस' लिखता है, "भारत की उन कंपनियों में डर है जिनके व्यवसाय ब्रिटेन में स्थित है और नज़र यूरोपीय बाज़ार पर है." अख़बार ने नंदन नीलकेणी के उस बयान को भी सुर्खी बनाया है जिसमें उन्होंने कहा है कि वैश्वीकरण और विकास का युग ख़तरे में है.

'हिंदुस्तान टाइम्स' ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के उस बयान को जगह दी है जिसमें उन्होंने ब्रिटेन की तरह ही दिल्ली को पूर्ण राज्य के दर्जे के मुद्दे पर जनमतसंग्रह कराने की बात की है.

आज के अख़बारों में न्यू्क्लियर सप्लायर ग्रुप यानी एनएसजी में भारत को सदस्यता न मिलने की ख़बर भी प्रमुखता से प्रकाशित है.

हिंदुस्तान टाइम्स लिखता है, " एनएसजी का सपना तोड़ने के लिए भारत ने चीन को ज़िम्मेदार माना."

आज के अख़बारों ने सुब्रमण्यम स्वामी और वित्त मंत्री अरुण जेटली के बीच विवाद को भी जगह दी है.

'द स्टेट्समैन' लिखता है, "अब सुब्रमण्यम बनाम जेटली" वहीं 'द इंडियन एक्सप्रेस' लिखता है, "स्वामी का जेटली पर एक और निशाना, बीजेपी का सिर दर्द और बढ़ा."

'द हिंदू' में प्रकाशित एक रिपोर्ट के मुताबिक़ दिल्ली में एक नाबालिग ने अपनी नाबालिग गर्लफ्रेंड को वेश्यालय में बेचने की कोशिश की और नाकाम होने पर उसका क़त्ल कर दिया.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए