पुलिस ने किया 'बिहार टाॅपर' को गिरफ़्तार

  • 25 जून 2016
इमेज कॉपीरइट Sanjay Kumar

पुलिस ने बिहार इंटरमीडिएट परीक्षा की इस साल की टॉपर को गिरफ़्तार कर लिया है.

इस टॉपर को, जो एक नवयुवती हैं, जांच परीक्षा में असफ़ल घोषित कर दिया गया.

जाँच में असफ़ल रहने के बाद उनका इंटरमीडिएट का रिज़ल्ट भी रद्द कर दिया गया है.

मई के अंत में एक न्यूज़ चैनल पर के दो टाॅपर्स का इंटरव्यू सामने आने के बाद परीक्षा में टॉप करने वालों की सूची पर सवाल खड़े हुए थे.

इमेज कॉपीरइट Biharpictures.com

दोनों आसान से सवालों का जवाब भी नहीं दे पाए थे. आर्ट्स टाॅपर ने तो पाॅलिटिकल साइंस को ’प्रोडिकल साइंस’ कहा था.

शनिवार शाम बिहार विद्यालय परीक्षा समिति के अध्यक्ष आनंद किशोर ने प्रेस कांफ्रेंस कर जांच रिज़ल्ट की जानकारी दी. पटना स्थित बिहार विद्यालय परीक्षा समिति के कार्यालय में छात्रा की दोबारा परीक्षा ली गई थी.

इसके पहले 3 जून को हुए दोबारा परीक्षा में विज्ञान के टॉपर और तीसरा स्थान हासिल करने वाले छात्रों को फ़ेल घोषित किया गया था.

शनिवार को नाकाम हुई टाॅपर पहले स्वास्थ्य कारणों से जांच परीक्षा में शामिल नहीं हुई थीं.

इमेज कॉपीरइट biharpictures.com

दोबारा हुई जांच परीक्षा में फेल रहे तीनों टाॅपर वैशाली ज़िले के हैं. इस मामले में इन तीनों सहित चार छात्रों पर प्राथमिकी भी दर्ज की गई है.

काॅलेज के प्रिंसिपल अमित कुमार उर्फ बच्चा राय और बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष लालकेश्वर प्रसाद सिंह घोटाले के मुख्य अभियुक्त हैं. दोनों अभी न्यायिक हिरासत में हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार