चालू है भारत के पहले राष्ट्रपति का बैंक खाता

  • 25 जून 2016
इमेज कॉपीरइट seetu tiwari

उनकी मौत के 50 साल से ज़्यादा हो चुके हैं लेकिन पहले भारतीय राष्ट्रपति डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद का खाता पटना के एक बैंक में अभी भी चालू है.

खाता नंबर '0380000100030687' एक्जीबिशन रोड वाले पंजाब नेशनल बैंक के ब्रांच में है.

24 अक्टूबर 1962 को शुरू हुए इस खाते का एकाउंट नंबर पहले 3068 था.

सीनियर बैंक मैनेजर संजय कुमार बताते हैं, ये खाता राजेंद्र प्रसाद जी की मौत के बाद भी जारी रहा, "इस खाते में हमेशा कुछ ना कुछ पैसा डलता रहा. कभी 100, कभी 501..., अभी जो सबसे हाल में इसमें पैसा डाला गया है ..."

इमेज कॉपीरइट seetu tiwari

बैंक की शाखा में बाक़ायदा उनके खाते से जुड़ी तस्वीर लगी है. इसमें उनके परिचय के तौर पर ‘फर्स्ट प्रेसीडेंट ऑफ इंडिया’ लिखा है और उनके पते के कॉलम में सदाक़त आश्रम, पटना लिखा है.

राष्ट्रपति पद से हटने के बाद राजेंद्र प्रसाद सदाक़त आश्रम में ही रहे और यहीं अपने जीवन के अंतिम दिन बिताए.

इस अकांउट का पैसा शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए ख़र्च हो रहा है. खा़ते में इस समय 7,330 रुपये है.

इमेज कॉपीरइट seetu tiwari

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने खाते को डेफ अकांउट में शिफ्ट कर दिया है. डेफ अकांउट के फंड का इस्तेमाल शिक्षा के प्रचार-प्रसार में किया जाता है.

हालांकि राजेंद्र प्रसाद के खाते में रुपये डालने वाले कौन लोग हैं, इसके बारे में बैंक के पास कोई पुख्ता जानकारी नहीं है.

संजय कुमार कहते हैं, "ये हमारे ग्राहक या शायद कर्मचारी भी हो सकते हैं. हमने अपने यहां उनके खाते को डिस्प्ले पर रखा हुआ है उसे देखकर ही बहुत लोग पैसा डाल देते होंगे."

इमेज कॉपीरइट seetu tiwari

राजेंद्र प्रसाद की मृत्यु के बाद उनके परिवार ने कभी इस खाते को लेकर कोई दावा नहीं किया.

उनकी पोती तारा सिन्हा कहती हैं, "हमारे परिवार ने कभी कोई क्लेम नहीं किया और बैंक ने ही अपने स्तर पर इस खाते को बचाए रखा है. और अब अगर वो इसका इस्तेमाल शिक्षा पर कर रहे हैं तो ये खुशी की बात है."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार