'चीन को भारत के हितों का ध्यान रखना होगा'

  • 26 जून 2016
नरेंद्र मोदी इमेज कॉपीरइट Reuters

परमाणु आपूर्तिकर्ता देशों के समूह (एनएसजी) की इस वर्ष के आख़िर में दोबारा बैठक हो सकती है जिसमें भारत जैसे उन देशों को सदस्यता देने पर विचार किया जाएगा जिन्होंने परमाणु अप्रसार संधि (एनपीटी) पर दस्तख़त नहीं किए हैं.

चीन ने एनएसजी में भारत की सदस्यता का विरोध किया था. समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक, इसके जबाव में भारत ने कहा है कि द्विपक्षीय संबंधों को आगे बढ़ाने के लिए चीन को भारत के हितों का ध्यान रखना होगा.

भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप का कहना है, ''हम चीन पर इस बात का दबाव बनाते रहेंगे कि द्विपक्षीय संबंधों को आगे बढ़ाने के लिए साझा हितों, चिंताओं और प्राथमिकताओं पर ध्यान देना होगा.''

इमेज कॉपीरइट TV IMAGE

विकास स्वरूप के इस बयान से पहले चीन के विदेश मंत्रालय ने ज़ोर देकर कहा था कि एनएसजी में भारत की सदस्यता पर चीन के विरोध का दोनों देशों के संबंधों पर बुरा असर नहीं पड़ेगा.

विकास स्वरूप ने ये भी कहा कि सोल में सम्पन्न हुई बैठक में भारत को भले ही सफलता नहीं मिली लेकिन भारत एनएसजी की सदस्यता के लिए अपना प्रयास जारी रखेगा.

इमेज कॉपीरइट NSG

उन्होंने कहा, ''आज की तारीख़ में भारतीय कूटनीति विफलता से नहीं डरती है. यदि हमें वांछित नतीजे नहीं मिलते हैं तो हम अपने दोगुना प्रयास करेंगे.''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार