बेंगलुरु में उबर की पहली महिला ड्राइवर की 'मौत'

  • 28 जून 2016
इमेज कॉपीरइट Kashif Masood

टैक्सी सेवा उबर की पहली भारतीय महिला ड्राइवर बेंगलुरू की वीरथ भारती अपने कमरे में फांसी पर लटकी पाई गई हैं.

पुलिस के अनुसार कमरे से किसी तरह का सुइसाइड नोट नहीं मिला है.

बेंगलुरु (उत्तर) के पुलिस उपायुक्त टीआर सुरेश ने बीबीसी को बताया, "हम उनके परिजनों का इंतज़ार कर रहे हैं. उनसे बात करने के बाद ही उनकी मौत के कारणों का पता चल पाएगा."

39 साल की वीरथ भारती बेंगलुरु में किराए के कमरे में अकेली रहती थीं. उन्हें कमरे में मृत पाने के बाद पड़ोसियों ने सोमवार की सुबह पुलिस को इसकी सूचना दी.

भारती मूल रूप से आंध्र प्रदेश के वारंगल की रहने वाली थीं.

भारती ने 2013 में जब टैक्सी ड्राइविंग का काम शुरू किया था तो वो सुर्खियों में भी आई थीं.

वीरथ भारती पहले दर्ज़ी का काम करती थीं. फिर वे एक गैर सरकारी संगठन (एनजीओ) से जुड़ीं. वहीं उन्होंने ड्राइविंग सीखी.

इसके बाद उन्होंने कार ख़रीदी और सवारियों को लाने-ले जाने का काम करने लगीं.

इमेज कॉपीरइट Kashif Masood

तब वीरथ ने स्थानीय मीडिया को बताया था कि सवारियों के साथ उनके अनुभव हमेशा अच्छे रहे.

फिलहाल भारती के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार