140 बार पुलिस को कहा लव यू

  • 6 जुलाई 2016
इमेज कॉपीरइट AFP

आई लव यू वो भी पुलिस को और एक बार नहीं 140 बार ये कारनामा नागपुर के 13 साल के एक लड़के ने किया है.

ये कहकर वह पुलिस कंट्रोल रूम की महिला कर्मचारियों को लगातार फोन पर परेशान करता रहा.

इमेज कॉपीरइट AP

महिला पुलिस कर्मचारियों को वह कहता, आप मुझे अच्छी लगती हैं. आई लव यू !

बीते कुछ हफ्तों से नागपुर पुलिस कंट्रोल रूम में कार्यरत महिला कर्मियों के लिए वो कॉलर एक मुसीबत बन गया था. कभी वो कहता कि, 'आग लगी है, फौरन आईए' कभी कहता कि, 'चोरी हो गयी है, जल्दी आइए.'

ये सभी जानकारी झूठी होती थी. इसमें पुलिस का क़ीमती समय जाया हो जाता था, लेकिन कई बार वो कंट्रोल रूम मे कार्यरत महिलाकर्मियों को आई लव यू कहता था.

नागपुर पुलिस की अपराध जांच शाखा की टीम ने जाँच की तो पता चला कि ये 140 कॉल सातवीं कक्षा के 13 वर्षीय लड़के ने की थी.

इस शाखा के मुखिया डीसीपी रंजन कुमार शर्मा ने बीबीसी को बताया कि आमतौर पर ग़लत जानकारी के लिए कॉल्स आना कोई नई बात नहीं हैं.

इमेज कॉपीरइट AP

इस तरह उलजलूल बातें कहने वाले कई दफ़ा 5 से 10 कॉल्स भी आते हैं.

कुछ कॉलर्स दिमाग़ी रूप से परेशान होते हैं. वे ये नहीं जानते कि वो किसे कॉल कर रहे हैं, क्यों कर रहे हैं. या क्या कह रहे हैं, ऐसे लोगों को छोड़ दिया जाता है.

लेकिन, इस मामले में कई दिनों से लगातार कॉल आने पर उस मोबाइल फ़ोन को ट्रेस किया गया और ये लड़का हाथ आया.

उसके पिता पान की दुकान चलाते हैं. बेटे की ओर से उन्होंने पुलिस को लिखित रूप आश्वस्त किया. इसके बाद उनके बेटे को छोड़ दिया गया, लेकिन आगे जांच जारी हैं.

दरअसल, आपात सेवाओं के लिए जारी किया गया 100 नंबर पुलिस के एक बड़े नेटवर्क हिस्सा होता है.

महाराष्ट्र के गृह मंत्रालय ने नागपुर समेत कई शहरों में डिजिटल सिस्टम के जरिए ऐसी प्रणाली स्थापित की है जिससे आपात समय में जवाब देने का समय कम किया जा सके.

इसके लिए डिजिटल स्क्रीन पर नक्शे के ज़रिए घटनास्थल से सबसे क़रीब स्थान पर मौजूद पुलिस के चार्ली कमांडो या मोबाइल टीम से संपर्क कर उन्हें कम से कम समय में भेजा जाता है.

लेकिन इतनी संवेदनशील व्यवस्था के लिए ऐसे फोन कॉल्स अक्सर सरदर्द और परेशानी का सबब बन जाते हैं.

इस मामले में भी यही हो रहा था.

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार