तीन किडनियों वाली महिला

  • 6 जुलाई 2016
इमेज कॉपीरइट RaviPrakash

रांची के नामकुम इलाके में रहने वाली अर्चना (बदला नाम) को कुछ दिन पहले तक पता नहीं था कि उन्हें तीन किडनियां हैं. बीमार पड़ने पर डाक्टरों ने सिटी स्कैन कराया, तो उन्हें इसकी जानकारी हुई.

रांची के मेडिका सुपर स्पेशलिटी अस्पताल में उनका ऑपरेशन किया गया जहां उनकी एक किडनी निकाल दी गयी है और वे स्वस्थ हैं.

उनकी बाकी बची दो किडनियां काम कर रही हैं.

मेडिका के यूरोलाजिस्ट डा सामिक चटर्जी ने बीबीसी को बताया कि यह रेयरेस्ट आफ द रेयर मामला है. जो अमूमन प्रति एक लाख लोगों में से किसी एक को होता है.

ब्रिटिश चिकित्सा विज्ञानी वेगटे मेयर्स ने सबसे पहले इसकी खोज की थी. इस कारण ऐसे मरीजों की जांच वेगटे मेयर्स ला के तहद की जाती है.

इमेज कॉपीरइट Ravi Prakash

डा सामिक चटर्जी ने बताया कि सिटी स्कैन या एमआरआई के जरिए मरीज मे डूपिंग लिली साइन होने का पता चलता है.

इस साइन का मतलब है कि मरीज के शरीर में दो से अधिक किडनियां हैं. ऐसा डुपलेक्स मोइटिज के बनने के कारण होता है.

ऐसे में किडनी के नीचे दूसरी किडनी भी बन जाती है. गर्भावस्था के दौरान ही शिशु में ऐसी किडनियां पनपती हैं.

अर्चना के पति रामप्रवेश(बदला नाम) ने बताया कि उऩकी पत्नी को बचपन से पेशाब लीक होने की शिकायत थी.

इस कारण उन्हें दुर्गंध और खुजली की शिकायत रहती थी. बचपन मे लोगों ने यह समझा कि शायद उम्र कम होने के कारण पेशाब पर नियंत्रण नहीं है.

जब शादी के बाद भी यह रोग ठीक नहीं हुआ तो उन लोगों ने डाक्टर को दिखाया.

डा सामिक ने बताया कि अर्चना के शरीर मे बांयी तरफ दो किडनियां थीं. इनमे से एक किडनी बड़ी होकर नीचे वाली किडनी को प्रभावित कर रही थी.

ऊपर वाली किडनी मे संक्रमण था. इस कारण उसका आपरेशन जरुरी था. यह जटिल आपरेशन है. क्योंकि किडनी के आपरेशन में खून की नलियों का ध्यान रखना बारीकी का काम है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार