राजनाथ पर निशाना, पर ख़ुद 'शिकार हुए' दिग्विजय

  • 8 जुलाई 2016
दिग्विजय सिंह इमेज कॉपीरइट PTI

विवादास्पद मुस्लिम उपदेशक ज़ाकिर नाइक के साथ मंच साझा करने पर उठे रहे सवालों के जवाब में कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह पर निशाना साधा तो ट्विटर पर लोगों ने उन पर तल्ख टिप्पणियां कीं.

इमेज कॉपीरइट twitter

दिग्विजय सिंह ने ट्वीट किया है कि, ''ज़ाकिर नाइक के साथ एक मंच पर आने को लेकर मेरी आलोचना हो रही है, लेकिन राजनाथ सिंह जी के बम धमाकों के मामले में अभियुक्त प्रज्ञा ठाकुर से मुलाक़ात का क्या?''

हाल ही में दिग्विजय सिंह का एक वीडियो सामने आया जिसमें देखा जा सकता है कि दिग्विजय मंच पर बैठे हैं और ज़ाकिर को 'मैसेंजर ऑफ़ पीस (शांतिदूत)' बता रहे हैं.

दिग्विजय सिंह ने ये भी लिखा है, ''प्रज्ञा ठाकुर पर बम धमाकों के मामले में आरोप हैं, क्या ज़ाकिर नाइक पर कोई मामला दर्ज है? श्री श्री रविशंकर जी भी नाइक के साथ एक मंच पर रहे, उसका क्या? ''

इसके बाद जवाब में ट्वीट्स की बाढ़ आ गई.

इमेज कॉपीरइट twitter

मुलायम सिंह यादव के नाम से पैरोडी अकाउंट @AndColorPockeT ने लिखा है, ''दिग्विजय जी ज़ाकिर नाइक के साथ मंच साझा करने पर लोग आपकी आलोचना नहीं कर रहे हैं, वो इसके लिए ज़ाकिर नाइक की निंदा कर रहे हैं.''

अनिल मट्टू ने @AnilMat00 से लिखा है, "चचा, भूल गए प्रियंका वाड्रा राजीव गांधी के हत्यारों/दोषी पाए गए आतंकियों से जेल में मिलने गई थीं. "

इमेज कॉपीरइट twitter

@DhongiMonk के ट्विटर अकाउंट ने लिखा है कि सलाखों के पीछे कई साल गुज़ारने और प्रताड़ना सहने के बाद प्रज्ञा ठाकुर को क्लीन चिट दी गई है. ज़ाक़िर नाइक के साथ भी ऐसा ही करें.

सुधांशु.एस.सिंह @sssingh21 के अकाउंट से लिखा है कि ज़ाकिर 11 जुलाई को लौटेंगे, एयरपोर्ट पर उन्हें लेने जाएं, उनके पैर छूएं और उन्हें शांति का संदेश देने के लिए ले जाएं.

इमेज कॉपीरइट twitter

कैलाशवाघ ने @kailashwg से लिखा है कि कांग्रेस ने हमेशा लश्कर-ए-तैयबा-आईएसआई और आईएम सलाफ़ियों और वहाबियों का भारत में चरमपंथ फैलाने में समर्थन किया है.

इमेज कॉपीरइट Facebook

बांग्लादेश की राजधानी ढाका में एक कैफ़े पर हुए चरमपंथी हमले के बाद ज़ाकिर नाइक जांच एजेंसियों के निशाने पर हैं.

कहा जा रहा है कि कुछ हमलावर ज़ाकिर नाइक को फ़ॉलो करते थे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार