'मेरे टैलेंट हंट में मोदी ड्रम बजाते तो ख़ूब नंबर देती'

  • 11 जुलाई 2016
मोदी ड्रम बजाते हुए इमेज कॉपीरइट AP

भारत के प्रधानमंत्री के अफ़्रीका दौरे पर रविवार को तंज़ानिया में उनके स्वागत के लिए पारंपरिक ड्रम बजाया जा रहा था.

नरेंद्र मोदी ने भी तंज़ानिया के राष्ट्रपति जोसेफ मगुफुली के साथ मिलकर एक मिनट तक ड्रम बजाया.

मोदी और मगुफुली को ताल से ताल मिलाते देखना काफ़ी दिलचस्प था.

एक बार तो तंज़ानिया के राष्ट्रपति जोसेफ मगुफुली ड्रम बजाते हुए रुक भी गए, लेकिन नरेंद्र मोदी के लय और ताल को देखकर उन्होंने भी मिलकर जुगलबंदी शुरू कर दी.

इमेज कॉपीरइट REUTERS

प्रधानमंत्री मोदी के इस अंदाज़ पर बीबीसी ने जानी मानी गायिका इला अरुण और संगीतकार बप्पी लाहिड़ी से बात की. आइए जानते हैं उनका क्या कहना है-

इला अरुण ने कहा-

जब भी वो ढोल या ड्रम देखते हैं तो एक्साइट हो जाते हैं, क्योंकि आप अपना बचपना नहीं भूल सकते हैं. आप अपने बचपन का टैलेंट नहीं भूल सकते हैं.

आप किसी भी पद पर बैठे हों, आप अपना शौक या स्वभाव बदल नहीं सकते हैं. उनके अंदर ऐसा है कि जब ये सब चीजें बजती हैं तो उनको अच्छा लगता है और वो चाहते हैं कि मैं इन्हें बजाउँ.

वैसे तो कुछ लोग फ़ोटो के लिए ऐसा करते हैं, जो करना पड़ता है. जब दुनियाभर के नेता कहीं जाते हैं, तो कहीं की टोपी पहन लेते हैं, कहीं की पगड़ी लगा लेते हैं.

इमेज कॉपीरइट AP

लेकिन प्रधानमंत्री मोदी के अंदर कुछ ऐसा है जो उन्हें मजबूर कर देता है कि दो पल सुर-ताल में गुज़ारे जाएँ. ये उनका नैचुरल टैलेंट है.

मैंने जब भी न्यूज़ में देखा है तो वो यह भी कोशिश करते हैं कि उनके साथ जुगलबंदी करने वाला कोई हो.

आप वाद्य यंत्र बजाकर भी लोगों के साथ संवाद कर सकते हैं. लेकिन ऐसा आप तभी कर सकते हैं जब आपको सुर-ताल के बारे में पता हो... और उनको ये पता है.

मैंने एक बार देखा था कि जब वो नए नए निर्वाचित हुए थे, तो गंगा आरती के दौरान वो ये भूल गए कि कितने कैमरे उन्हें देख रहे हैं, वो पूरी तरह से मग्न हो गए.

उन्होंने कभी ये तो नहीं कहा है कि मैं ज़ाकिर हुसैन या रवि शंकर हूँ. उनके अंदर प्रतिभा है और मेरे टैलेंट हंट में बैठते तो मैं उनको बहुत नंबर देती.

बप्पी लाहिड़ीः

इमेज कॉपीरइट AP

मैं उनका क़रीबी दोस्त हूँ. मैं उनके पास जाता रहता हूँ. उन्हें संगीत का बड़ा शौक है और हमेशा संगीत के बारे में पूछते रहते हैं.

उनको ड्रम बजाने का बहुत शौक हैं, इनसे उनका बहुत लगाव है. उन्होंने मेघालय में भी ड्रम बजाया था.

ड्रम एक खुशी का संकेत है. मैं ख़ुद तबला बजाता हूँ. किसी देश में जाकर ड्रम बजाना खुशी का संकेत है, इसने दोनों देशों को मिलाया है.

(बीबीसी संवाददाता वात्सल्य राय के साथ बातचीत पर आधारित)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहाँ क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार