'सिन्हा ने जांच प्रभावित करने का प्रयास किया'

  • 12 जुलाई 2016
रंजीत सिन्हा इमेज कॉपीरइट AFP

कोयला घोटाले की जांच के लिए सुप्रीम कोर्ट की बनाई समिति ने कहा है कि पहली नज़र में प्रतीत होता है कि पूर्व सीबीआई निदेशक रंजीत सिन्हा के ख़िलाफ़ जांच को प्रभावित करने का मामला बनता है.

पीटीआई के मुताबिक सुप्रीम कोर्टी की बनाई जांच समिति ने पूर्व सीबीआई निदेशक रंजीत सिन्हा की आगंतुक डायरी को सही पाया है.

हालाँकि पैनल की जांच रिपोर्ट पर सुप्रीम कोर्ट ने अंतिम फ़ैसला सुरक्षित रख लिया है.

'कोल-गेट' की तह में छिपे सवालों के जवाब

रंजीत सिन्हा पर आरोप है कि उन्होंने अपने कार्यकाल में ऐसी कपंनियों से जुड़े व्यक्तियों से मुलाक़ात की जो कोयला घोटाले से संबंधित थे.

बाद में ये मामला अदालत पहुंचा और सुप्रीम कोर्ट ने इसकी जांच के लिए अपनी निगरानी में एक समिति गठित कर दी.

इमेज कॉपीरइट AFP

स्पंज स्टील एंड पॉवर लिमिटेड (केएसएसपीएल) के मामले में सीबीआई ने क्लोज़र रिपोर्ट दाखिल कर दी थी, लेकिन अदालत के हस्तक्षेप के बाद यह मामला जारी रखा गया.

सिन्हा पर ये भी आरोप लगे थे कि उन्होंने तत्कालीन क़ानून मंत्री के कहने पर जांच रिपोर्ट में बदलाव किए थे.

सिन्हा ने अप्रैल 2013 में अदालत में एक हलफनामा दायर कर कहा था कि स्टेटस रिपोर्ट का मसौदा क़ानून मंत्री अश्वनी कुमार, प्रधानमंत्री कार्यालय और कोयला मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारियों को दिखाया गया था.

रंजीत सिन्हा पर 2जी स्पेक्ट्रम घोटाले से जुड़े लोगों से मुलाक़ात करने के भी आरोप लगे और आखिरकार सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर उन्हें इस मामले की जांच से हटना पड़ा था.

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार