गोधरा: मुख्य अभियुक्त 14 साल बाद गिरफ़्तार

  • 13 जुलाई 2016
इमेज कॉपीरइट Reuters

गुजरात के गोधरा में 2002 में साबरमती एक्सप्रेस ट्रेन में आग लगने के मामले में मुख्य अभियुक्तों में से एक इमरान बटुक को गिरफ़्तार किया गया है.

चौदह साल से ज़्यादा समय से फ़रार बटुक को अहमदाबाद पुलिस की क्राइम ब्रांच ने बुधवार को महाराष्ट्र के मालेगाव से गिरफ़्तार किया.

गोधरा ट्रेन कांड तब हुआ जब फ़रवरी 2002 में अयोध्या से कई हिंदू कारसेवकों को ला रही साबरमती एक्सप्रेस में आग लग गई और कुल 59 लोग मारे गए.

इस घटना के बाद गुजरात में दंगे भड़के जिनमें एक हज़ार से ज्यादा लोग मारे गए थे.

मौजूदा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उस वक़्त गुजरात के मुख्यमंत्री थे.

उनके आलोचक अब तक गुजरात दंगों को लेकर मोदी पर सवाल उठाते हैं.

अहमदाबाद पुलिस की क्राइम ब्रांच का कहना है कि इमरान बटुक उन लोगों में शामिल थे जिन्होंने 27 फरवरी 2002 को साबरमती एक्सप्रेस के एस-6 कोच में आग लगाई थी.

पुलिस ने बताया, "दूसरी चार्जशीट में इमरान का नाम एक मुख्य अभियुक्त के तौर पर आया है."

पिछले दो महीनों में गोधरा अग्निकांड को लेकर लेकर ये दूसरी गिरफ़्तारी है.

इससे पहले मई महीने में गुजरात एटीएस ने फारुख़ भाना को गिरफ्तार किया था. वो भी इस मामले के मुख्य अभियुक्तों में से एक हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए