अरुणाचलः पेमा खांडू बने कांग्रेस विधायक दल के नेता

  • 16 जुलाई 2016
पेमा खांडू इमेज कॉपीरइट Dilip Sharma

अरुणाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री नबाम तुकी ने राज्यपाल को अपना इस्तीफ़ा सौंप दिया है.

वहीं कांग्रेस विधायक दल के नेता चुने गए पेमा खांडू ने कहा कि उन्होंने राज्यपाल के सामने सरकार बनाने का दावा पेश कर दिया है.

उनका कहना है कि जल्द ही राजभवन से शपथ ग्रहण का समय तय किया जाएगा.

इस्तीफ़ा देने के बाद पूर्व मुख्यमंत्री तुकी ने कहा कि उनकी पार्टी में अब कोई मतभेद नहीं है, विधायकों के बीच केवल विचारों का अंतर था.

उन्होंने कहा कि अब फ़्लोर टेस्ट की कोई ज़रूरत नहीं रह गई है और यह कांग्रेस की बड़ी जीत है.

नबाम तुकी ने बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा, "इससे बीजेपी को सबक मिलेगा. राज्यों के मामलों में बीजेपी को दख़लअंदाजी करना भारी पड़ा. अरुणाचल प्रदेश में यह संकट बीजेपी ने ही पैदा किया था. यह एक ओपन सीक्रेट है".

इमेज कॉपीरइट PTI

इससे पहले अरुणाचल प्रदेश में कांग्रेस ने बहमुत परीक्षण से पहले पेमा खांडू को विधायक दल का नेता चुन लिया. पेमा अभी तक बाग़ी गुट में शामिल थे.

पेमा खांडू पूर्व मुख्यमंत्री दोरजी खांडू के पुत्र हैं.

पेमा खांडू ने कहा कि अरुणाचल प्रदेश में कांग्रेस की सरकार को वापस लाने का श्रेय पार्टी आलाकमान को जाता है.

पेमा सहित 30 बाग़ी विधायकों में से 24 के वापस कांग्रेस में लौटने का दावा किया गया है. अगर इस दावे को मान लिया जाए तो संख्या बल के हिसाब से कांग्रेस के पास 39 विधायक होने की बात कही जा रही है.

अरुणाचल के प्रभारी राज्यपाल तथागत रॉय ने कहा कि वो दाख़िल किए गए काग़ज़ातों का अध्ययन करेंगे और उसी के अनुसार शपथ ग्रहण का दिन तय किया जाएगा.

इमेज कॉपीरइट AP

हाल ही में सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर पूर्व मुख्यमंत्री नबाम तुकी सरकार बहाल हुई थी.

नाबाम तुकी को बीते बुधवार को ही मुख्यमंत्री के पद पर बहाल किया गया था.

दिसंबर 2015 में 60 सदस्यीय विधानसभा में सत्तापक्ष कांग्रेस के 47 में से 21 विधायकों ने तुकी सरकार से बग़ावत कर दी थी.

कई हफ़्ते तक चली राजनीतिक उठापटक के बाद तत्कालीन राज्यपाल ज्योति प्रसाद राजखोवा ने कांग्रेस के बाग़ी गुट के नेता कालिखो पुल को 19 फरवरी को मुख्यमंत्री पद की शपथ दिलाई थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार